साकेत अस्पताल की अविस्मरणीय पहल//वरिष्ठ पत्रकार श्याम सुंदर आचार्य की पुस्तक "अंतर्दृष्टी " का विमोचन

जयपुर - साकेत अस्पताल ने एक अविस्मरणीय पहल कर उल्लेखनीय कार्य किया है। अस्पताल में भर्ती कैंसर से जूझ रहे वरिष्ठ पत्रकार श्याम सुंदर आचार्य की पुस्तक "अंतर्दृष्टी " का विमोचन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें पत्रकारों, साहित्यकारों और मित्रजनों ने अपनी उपस्तिथि से कार्यक्रम की गरिमा बढ़ाई।


ऐसा साकेत अस्पताल में ही हो सकता है।  एक ऐसा अस्पताल जहां मरीज को ग्राहक नहीं समझा जाता और जहां चिकित्सा में मानवीय संवेदनाओं की ऊष्मा महसूस होती है।  वरिष्ठ पत्रकार श्याम सुन्दर आचार्य , जो दुर्दांत व्याधि कैंसर से जूझते हुए इन दिनों साकेत अस्पताल में भर्ती हैं कि कविताओं के संग्रह की पुस्तक का गौरवमय विमोचन समारोह का आयोजन अस्पताल प्रशासन ने किया। श्याम जी को व्हील चेयर पर बिठाकर उनकी पुस्तक " अंतर्दृष्टि " का विमोचन उनके प्रशंसकों ने संयुक्त रूप से किया। 


वरिष्ठ पत्रकार प्रवीण चंद्र छाबड़ा , शिक्षाविद पुरुषोत्तम चतुर्वेदी ,सेबी के पूर्व अध्यक्ष डी० आर० मेहता ,पूर्व प्रशासनिक अधिकारी श्याम सुंदर बिस्सा ,दैनिक भाष्कर के राज्य प्रमुख लक्ष्मी प्रसाद पंत और साकेत अस्पताल के प्रमुख डा० प्रवीण मंगलुनिया सभी ने मिलकर पुस्तक का लोकार्पण किया. 


प्राकृत भारती अकादमी ने बिस्सा जी की प्रेरणा और मेहता जी के निर्देश पर लगभग एक ही सप्ताह में पुस्तक को मूल रूप दे कर अकल्पनीय कार्य कर दिखाया। पुस्तक विमोचन के यादगार पलों के साक्षी बनने वालों में श्याम जी के परिजनों के अलावा सकते अस्पताल के डा० ईश मुंजाल , महेंद्र मधुप,दैनिक नव ज्योति के पूर्व संपादक महेश शर्मा , पिंक सिटी प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष लल्लू लाल शर्मा , वर्तमान अघ्यक्ष अभय जोशी ,वरिष्ठ जनसंपर्ककर्मी  लक्ष्मण बोलिया ,पत्रकार प्रकाश भंडारी ,तरुण जैन ,श्याम सुन्दर तथा महानगर टाइम्स के मुख्य संपादक गोपाल शर्मा शामिल थे।