जगमग दीप जले


जगमग दीप जले
हर दिशा में नव दीप जलाने ही पड़ेंगे।
घोर अंधेरा है छाया,
मनों से तिमिर भगाने ही पड़ेंगे।


दिग्भ्रमित हो गया मानव,
नव पथ खोजने ही पड़ेंगे।
ज्ञान का आलोक कर,
अज्ञान तम हरने पड़ेंगे।।


वाकवाणी कटुमय हो चली,
मधुर स्वर भरने ही पड़ेंगे।
स्नेहमयी वर्तिका होगी दियों में,
लोक मंगल हेतु जलाने ही पड़ेंगे।
हर दिशा में दीपक जलाने ही पड़ेंगे।।


प्रतंत्रता की छाया छंट गयी,
स्वतंत्रता के बीज बोने ही पड़ेंगे।
विश्ववंन्धुत्व की कामना के लिए,


ज्ञान के दीपक जलाने ही पड़ेंगे।
असत्य के दैत्याकार तम को मिटाने,
सत्यरूपी दीपक जलाने ही पड़ेंगे।।
हर दिशा में ज्ञान के दीपक जलाने ही पड़ेंगे।
 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

डॉ सुब्बाराव की पुण्यतिथि पर शिविरार्थियों ने मानसरोवर में निकाली सदभावना रैली

आजादी के बाद भी बिरसा मुंडा को उचित सम्मान न दिए जाने पर निराशा