जैन समाज भी अल्पसंख्यक स्कीमों का हक़दार:हाजी इशराक ख़ान


नयी दिल्ली-उत्तर पूर्वी जिले के मौजपुर इलाके मे सौफिया एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसाइटी व्  दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग दिल्ली सरकार मिलकर अल्पसंख्यकों के लिए दिल्ली सरकार के द्वारा दी जाने वाली स्कीमों के लिए जैन अतिथि भवन मे जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया जिसमे सीलमपुर इलाके के विधायक हाजी इशराक ख़ान मुख्य अतिथि, एस. डी. एम.(हेड क्वार्टर) पवन कुमार, डॉक्टर प्रबजोत कौर (दिल्ली  अल्पसंख्यक आयोग), महेन्दर जैन (प्रधान जैन समाज ) विशिष्ट अतिथि मौजूद रहे


सौफिया संस्था दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग की दिल्ली के लिए अल्पसंख्यकों को जागरूक करने व् उनके अधिकार के लिए बात करने की सहयोगी संस्था है और पिछले 7 साल से लगातार आयोग के साथ मिलकर दिल्ली मे सरकारी स्कीमों को जन जन तक पहुंचाकर हजारो लोगो को स्कीमों का फायदा दिला चुकी है दिल्ली सरकार की तरफ से स्कीमों को लेने के लिए एक जरूरी कागज आय प्रमाण पत्र बनना है जिसे इलाके के SDM  द्वारा बनाया जाता है इसके लिए सिर्फ तीन जरूरी कागजो की जरूरत पड़ती है आधार कार्ड, बिजली का बिल, वोटर कार्ड और अपनी आय का एक स्वय प्रमाणित एप्लीकेशन देना होता है  दिल्ली सरकार की ट्यूशन फीस वापसी की स्कीम के जरिये हजारों रुपए वापस लिए जा सकते है बस जानकारी न होने की वजह से इन सभी स्कीमों से वंचित रह जाते है ऐसे मे जरूरी है कि सामाजिक संगठनों को मिलकर आयोग के साथ काम करना चाहिए और सभी जरूरत मंदो को स्कीमों को दिलाने मे मदद करनी चाहिए जो परिवार गरीबी रेखा के निचे रहते है दिल्ली सरकार उनके बच्चो को प्राइवेट स्कूल मे आठवीं तक मुफ्त शिक्षा दिलाने के लिए EWS कैटगरी मे दाखिले दिसंबर मे निकलते है हमे ज्यादा से ज्यादा बच्चो  का रजिस्ट्रेशन करना चाहिए


इशराक ख़ान ने अपने सम्बोधन मे कहा कि आयोग अल्पसंख्यकों जैसे मुस्लिम, क्रिस्चन, इसाई, सिख, पारशी, जैन समुदाय के लिए बना है व् इनके अधिकारों के लिए निरंतर काम करने व् उनके हक़ के लिए आवाज उठाने के लिये सोफिया संस्था की  टीम काम करती है किसी भी समाज, देश, जाति, समुदाय का विकास व् जमीनी स्तर पर बदलाव बिना शिक्षा के संभव नहीं है जब तक हमारे समाज के बच्चे अच्छी स्कूलों मे नहीं पढ़ेंगे तब तक  बदलाव लाना नामुमकिन है स्कीमों को हासिल करना हमारा हक़ है क्योकि ये स्कीमों का पैसा सरकार हमारे दिए हुए टैक्स से ही जरूरतमदों को लौटाती है तो फिर हमे उन स्कीमों को लेने के लिए आगे आना चाहिए और अपने साथ साथ दूसरों को भी बताना चाहिए जिससे स्कीमों को हासिल करके अपने बच्चो को बेहतर तालीम दिलाई जा सके


परबजोत कौर ने कहा कि अभी हमने करीब अलग अलग इलाकों से 50 से ज्यादा एन. जी.ओ को आयोग मे शामिल किया है और अलग अलग समुदाय के लोगो को मेंबर बनाया है जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगो से संपर्क बनाया जा सके और आयोग उनकी परेशानियों को सुनकर उनका हल निकल सके दिल्ली सरकार की स्कीमों के लिए हम जगह जगह  जागरूकता शिविर लगाकर उन्हें अपनी गैर सरकारी संस्थानों के साथ मिलकर जमीनी स्तर पर काम कर रहे है जिससे समय पर उनको लाभ दिलाया जा सके


सुहैल सैफी ने अपने सम्बोधन मे कहा कि यह पहला मौका है जब दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग जैन समु दाय के साथ स्कीमों के लिए जागरूक करने के लिए शिविर का आयोजन सोफिया संस्था के साथ मिलकर लगाया गया  जैन समाज के जिम्मेदार लोगो को चाहिए कि अलग अलग इलाको मे संस्था के माध्यम से जागरूकता शिविर लगाए और लोगो को फायदा पहुँचाने मे मदद करे जिंदगी मे ऊँचाइयाँ हासिल करने के लिए पक्के इरादे का होना बहुत जरूरी है अपने लड़कियों को पढ़ना हमारा मकसद नहीं हमारी जिद होनी चाहिए और पडोसी यदि आपको अपनी लड़की को पढ़ने से रोके तो घर की महिलाओं को चाहिए की उनके खिलाफ आवाज उठाये


इस मोके पर अजय जैन, सुभाष जैन (प्रधान ), सचिन जैन, ज्योति जैन, गगनदीप, नदीम सरफ़राज़, जोगिन्दर, आज़म, नौशाद, बाबू ख़ान, सलीम व् आसिफ सैफी मौजूद रहे  


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

डॉ सुब्बाराव की पुण्यतिथि पर शिविरार्थियों ने मानसरोवर में निकाली सदभावना रैली

आजादी के बाद भी बिरसा मुंडा को उचित सम्मान न दिए जाने पर निराशा