लाल देश के लाल थे


   


लेखिका >सुषमा भंडारी


लाल बहादुर शास्त्री
     थे गुदड़ी के लाल।
     भारत रत्न मिला उन्हे
      कर दिया उँचा भाल।।


 लाल देश के लाल थे
     जाने ये संसार।
     जय जवान जय किसान
      नारा दिया अपार।।


 गुदड़ी के इस लाल ने
     ऐसा किया कमाल।
      सच्चाई के रास्ते
     बने देश की ढाल।।


 जन्मोत्सव की ये घड़ी 
     आये बारम्बार।
      दो अक्टूबर मना रहा
      सारा ये संसार।।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला