रावण जलता आ रहा ,जला न अब तक द्वेष

रावण जलता आ रहा ,जला न अब तक द्वेष ।
मन का रावण मारकर ,शुद्ध करें परिवेश।।।



लेखिका>सुषमा भंडारी


मुश्किल है आसां नहीं बंटवारे की पीड़ 
चिड़िया ही बस जानती कैसे बनता नीड। ।


पुतले सारे जल गए, रावण मरा न एक
राम बना ना एक भी रावण है प्रत्येक ।।


अहंकार को  मार कर  मन को कर ले साफ
 प्रभुराम को याद कर कर देंगे वो माफ।।


सत्य सदा ही जीतता हारे सदा ही झूठ
खुशियों की अब क्या कहें झूठ से जाती रूठ।।


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड के प्रतिभाशाली खिलाड़ीयो की 32 टीमे भाग ले रही है

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर