कोयला खदान दुर्घटनाओं में मौतों के लिए अनुग्रह राशि में 300 प्रतिशत वृद्धि की घोषणा


ओडिशा '' मैं कोयला श्रमिकों के लिए खान दुर्घटना में मौत के लिए अस्थायी कर्मचारी के साथ-साथ अनुबंधित कर्मचारियों के मामले में भी अनुग्रह राशि को 5 लाख रुपये से बढ़ाकर 15 लाख रुपये करने की घोषणा करता हूं।” जोशी ने कहा कि भारत सरकार आम आदमी के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए प्रतिबद्ध है और युवाओं के लिए अधिक रोजगार और उद्यमिता के अवसर पैदा करने की दिशा में तेजी से काम कर रही है। उन्होंने यह भी घोषणा की कि महानदी कोलफील्ड्स वित्तीय वर्ष 2024-25 तक अपनी भूमि गंवाने वाले 4000 से अधिक लोगों के लिए रोजगार उपलब्ध करेगी।


कोयला एवं खान मंत्री प्रह्लाद जोशी ने ओडिशा में महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड (एमसीएल) में कोयला खनिकों को संबोधित करते हुए कहा कि यह कल्याणकारी उपाय देश के आठ राज्यों में कोल इंडिया और इसकी सहायक कंपनियों के तहत काम करने वाले खनिकों के 3.5 लाख से अधिक परिवारों को कवर करेगा।


कोयला एवं खान मंत्री ने ओडिशा में महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड में तालचेर कोलफील्ड्स के खनन कार्यों का एक हवाई सर्वेक्षण और निरीक्षण किया, जो राज्य में चलने वाली कंपनी कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) की दूसरी सबसे बड़ी सहायक कंपनी है, जो सीआईएल के कुल कोयला उत्पादन का लगभग 25 प्रतिशत योगदान करती है। जोशी ने कहा कि महानदी कोलफील्ड्स आने वाले वर्षों में एमसीएल खानों से कोयले की निर्बाध ढुलाई के लिए रेलवे के बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए 9000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करेगी।


देश के लिए कोयला उत्पादन बढ़ाने के बारे में सभी हितधारकों के सहयोग की मांग करते हुए, श्री जोशी ने कहा कि एमसीएल अपने परिचालन क्षेत्रों के आसपास के गाँवों में मोबाइल मेडिकल यूनिट (एमएमयू) चलाएगा, ताकि जरूरतमंद लोगों को अपने घर में मुफ्त स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध हो सके। जोशी कंपनी के खनन कार्यों की समीक्षा के लिए एमसीएल की अपनी पहली यात्रा पर थे। उन्होंने एमसीएल डीएवी स्कूल, लिंगराज क्षेत्र की आधारशिला भी रखी, जो अनुमानित 45 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जाएगा। शुरुआत में इसमें 1300 छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा और बाद में इसे बढ़ाकर 3000 करने का प्रस्ताव है। इस अवसर पर सीआईएल के सीएमडी श्री ए.के. झा और एमसीएल के सीएमडी श्री बी. एन. शुक्ला भी अन्य गणमान्य व्यक्तियों के साथ उपस्थित थे।