पालम क्षेत्र की महिलाओं की बैठक,महिला एकता मंच का गठन


लक्ष्मी नेगी अध्यक्ष एवं आरती चौहान सचिव  


नयी दिल्ली - पालम क्षेत्र की महिलाओं की एक बैठक अनिला रावत के निवास पर आहुत की गई। जिसमें बड़ी मात्रा में महिलाओं ने भाग लिया। इसके पूर्व सूत्रधार सुरेन्द्र सिंह नेगी ने इस का शुभारंभ किया। श्रीमती लक्ष्मी नेगी अध्यक्ष एवं श्रीमती आरती चौहान महा सचिव को मंच का नेतृत्व सौंपा गया। साथियों प्रदेश में निवास करना अकेले जीवन निर्वाह करना इतना सरल नहीं है।हमें अपने पास पड़ोस को लेकर चलना ही पड़ेगा। मनुष्य सामाजिक प्राणी है। समाज सामान्य विचारों का एक पुंज है। जो एक प्रकार के रीति-रिवाज, सामाजिक संस्कारों, भाषा और संस्कृति का निर्वाह करता है।


इस संदर्भ में आज मातृशक्ति से यही निवेदन किया जा सकता है कि समय-समय पर उनका योगदान भिन्न भिन्न रूप में माना जाता है। भारतीय नारियों में लक्ष्मी बाई ने नारी शक्ति के आधार पर स्वतंत्रता-संग्राम लड़ा था। अकेली  गौरा देवी के आह्वान पर दरांतियों के दंम पर चिपको आन्दोलन लड़ा गया। प्रर्यावरण संमवर्धन की उन्हें नायक माना गया। उत्तराखंड की नारियों में अपूर्व शक्ति भरी है खेल कूद से लेकर पर्वतारोहण,स्वास्थ्य , शिक्षा सैनिक और प्रशासनिक क्षेत्र में अपना योगदान दे रही हैं। यह कहते हमें गर्व होता है। चौथे और पांचवें दशक में,हमारी माता बहिनें शिक्षा के क्षेत्र में बहुत पिछड़ी हुई थी। खेती वारी, पशुपालन के लिए शादी व्याह किये जाते थे। प्रदेश गमन वर्जित था।


फिर भी महिलाएं, घास लकड़ी, मेले, सामूहिक क्रिया कलापों में जुड़ जाती रही हैं। गांव के हर छोटे बड़े काम महिलाओं द्वारा होते रहे हैं। पलायन के कारण आज भी गांव में अच्छे बुरे काम वही कर रही है।  साथियों शब्द से संम्बोदन कर रहा हूं। आज उसी पहिचान की पुनरावृत्ति की आवश्यकता है। मैंने कल अपनी भाषा में भी एक लेख भेजा था।उसका आसय भी सामाजिक चेतना को जागृत करना है। अपनी अच्छाइयों और सामाजिक सेवा करने की ललक दिखाने का समय है उसके परिणाम आपको भविष्य संतति में अवश्य दिखाई देंगे। उन्नत फसलों के बीज हमेशा उन्नत फसलें पैदा करती हैं। आशा करते हैं आप इस मशाल को प्रज्वलित करती रहेंगी।