प्यार रंग गहरा बहुत फीकी होती जंग


होली के त्योहार पर 
करें न हम हुडदंग।
प्यार रंग गहरा बहुत
फीकी होती जंग।।


द्वेष ईर्ष्या लोभ सब 
झगड़े की शुरुआत।
होली खुशियों से भरी
कर लें मीठी बात ।।


जब से जग को लग गया
मैं- मैं -मैं का रोग।
तर्क वितर्क कुतर्क का
अन्तर भूले लोग।।


रंग सभी देते हमें
मनमोहक बर्ताव।
आ होली के रंग से
धो लें सारे घाव।।


होली की अग्नि जले
करूँ बुराई भस्म।
भीतर भी होली जले
सीखूंगी तिलिस्म।।


सुषमा भंडारी


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक शाम सुपरिचित कवि, लेखक, अनुवादक, संपादक और समीक्षक सुरेश सलिल के नाम

संवेदना के स्वर’ का लोकार्पण-समारोह

बॉक्सिंग चैंपियनशिप राष्ट्रीय प्रतियोगिता मे जीते गोल्ड

अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में देश विदेश फिल्मों का आयोजन 2 जुलाई को