प्यार रंग गहरा बहुत फीकी होती जंग


होली के त्योहार पर 
करें न हम हुडदंग।
प्यार रंग गहरा बहुत
फीकी होती जंग।।


द्वेष ईर्ष्या लोभ सब 
झगड़े की शुरुआत।
होली खुशियों से भरी
कर लें मीठी बात ।।


जब से जग को लग गया
मैं- मैं -मैं का रोग।
तर्क वितर्क कुतर्क का
अन्तर भूले लोग।।


रंग सभी देते हमें
मनमोहक बर्ताव।
आ होली के रंग से
धो लें सारे घाव।।


होली की अग्नि जले
करूँ बुराई भस्म।
भीतर भी होली जले
सीखूंगी तिलिस्म।।


सुषमा भंडारी


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

जेकेके में नाटक ‘नमकसार’ अगरिया समुदाय के संघर्ष का मंचन