रंग चढ़यो अबीर गुलाल...सखींन...



सरोज शर्मा 

 

रंग चढ़यो अबीर गुलाल

सखिन मारी पिचकारी

 

भीगी अंगिया चुनर मोरी भीगी

भीग गई री मै  सारी

सखिन मारी पिचकरी

रंग चढ़यो अबीर गुलाल...सखींन....

 

हिलमिल सगरी करें  ठिठोली

मिलजुल  सब नै,रंग मै बोरी

चुनरी दयी रंग लाल,सखींन.....

 

मारी पिचकारी

रंग चढ़यो अबीर गुलाल

सखींन  मारी...........

 

कर बरजोरी कलइयां पकरी

ऊंगली मरोडी,चूड़ियां चटकी 

गाल दिए रंग लाल

सखींन मारी।  पिचकारी

रंग चढ़यो अबीर..............

------

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक शाम सुपरिचित कवि, लेखक, अनुवादक, संपादक और समीक्षक सुरेश सलिल के नाम

संवेदना के स्वर’ का लोकार्पण-समारोह

बॉक्सिंग चैंपियनशिप राष्ट्रीय प्रतियोगिता मे जीते गोल्ड

अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में देश विदेश फिल्मों का आयोजन 2 जुलाई को