रंग चढ़यो अबीर गुलाल...सखींन...



सरोज शर्मा 

 

रंग चढ़यो अबीर गुलाल

सखिन मारी पिचकारी

 

भीगी अंगिया चुनर मोरी भीगी

भीग गई री मै  सारी

सखिन मारी पिचकरी

रंग चढ़यो अबीर गुलाल...सखींन....

 

हिलमिल सगरी करें  ठिठोली

मिलजुल  सब नै,रंग मै बोरी

चुनरी दयी रंग लाल,सखींन.....

 

मारी पिचकारी

रंग चढ़यो अबीर गुलाल

सखींन  मारी...........

 

कर बरजोरी कलइयां पकरी

ऊंगली मरोडी,चूड़ियां चटकी 

गाल दिए रंग लाल

सखींन मारी।  पिचकारी

रंग चढ़यो अबीर..............

------

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

जेकेके में नाटक ‘नमकसार’ अगरिया समुदाय के संघर्ष का मंचन