वह नीर भरी दुःख की बदली


वह नीर भरी दुःख की बदली


छोड़ अमरलोक वेदना में चली


क्योंकि----


उसके पलकों में निर्झरणी मचली


वह बीन भी 


है वह रागिनी भी


सीमा का वह भ्रम


वह है स्वर संगम


वह रेखा का क्रम


जिसने नीहर का हार रचा


अतीत के चलचित्र खींचे


दीपशिखा की लौ जलाई


चाहिए जिसे मिटने का स्वाद


छायावाद का वह दीप स्तंभ


पथ का वह साथी सच्चा 


रश्मि का तड़ित विलास 


वह श्रृंखला की अटूट कड़ी


महान देवी महादेवी ।


 


# डॉ शेख अब्दुल वहाब


         तमिलनाडु





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला