हम धोखे में थे-अगर इंसान अपनी टांग न अड़ाए


टिप्पणियाँ