इतिहास लिख रहा है वर्तमान


साहित्यकार / कवि अशोक लव 


●अवतरित हुआ  है मानवपिपासु
बजा रहा है विश्व के कोने-कोने में 
शोक संगीत,
सोते जा रहे हैं चिरनिद्रा में 
हज़ारों-हज़ार मानव !


●युद्ध जारी है
संघर्षरत है मानवता
आशान्वित है मानवता 
अंत होगा मानव से मानव को 
संक्रमित करने वाले दानव का 
विजयी होगी मानवता !


●आते रहे हैं धरती पर 
तारकासुर, महिषासुर, बकासुर, रक्तबीज, रावण 
और न जाने कितने-कितने मायावी,
करते रहे हैं संहार मानवता का 
उन्होंने भी सुला दिया था 
असंख्य मानवों को चिरनिद्रा में
और इतिहास साक्षी है 
हो गया था अंत उनका भी एक दिन !


●वर्तमान भी रच रहा है इतिहास 
संघर्षरत है वर्तमान
मनावपिपासु कितना ही क्रूर है 
रूप बदल-बदलकर डस रहा है 
कर रहा है संहार 
अंत इसका भी सुनिश्चित है 
विजयी होगा मानव 
विजयी होगी मानवता 
अवश्यम्भावी ! अवश्यम्भावी !!●


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड के प्रतिभाशाली खिलाड़ीयो की 32 टीमे भाग ले रही है

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर