कर्त्तव्य पर अडिग रहे

 



विजय सिंह बिष्ट


जीवन यात्रा के पल
बृद्ध हैं हम अपंग,
आंसुओं में पल रहे हैं।
कंटकों में जीवन बिताया,
नहीं वेदना भुला रहे हैं।
सतपथ के अनुगामी रहे,
अपने ही हमें, झुठला रहे हैं।


कर्त्तव्य पर अडिग रहे,
कर्त्तव्य च्युत बतला रहे हैं।
सहायक बने मित्रता में,
वे असहाय छोड़े जा रहे हैं।
बदलाव की बयार है ये,
जिन्हें आपात में था संभाला,
वे सम्पन्न अब पीठ दिखला रहे हैं।
पराये तो पराये ही रहे,
अपने भी मुंह छिपा रहे हैं।


स्वार्थ की बलवेदी पर,
जब तक चढ़ते रहेंगे।
आज हमको चढ़ा रहे हो,
कल तुम भी चढ़ोगे।
श्रृष्टि का ये कर्मफल है,
एक हाथ से दोगे, दूजे से पाओगे।
आशीष देते हैं तुम्हें,
तुम न ये सफर करना।
सीख कड़वी है मगर,
पथ बिचलित कभी न होना।
 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड के प्रतिभाशाली खिलाड़ीयो की 32 टीमे भाग ले रही है

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर