कविता -अदृश्य शत्रु


कवि,साहित्यकार अशोक लव 


सैकड़ों वर्ष पूर्व 
विश्व विजय का संकल्प लिए
नगरों को रौंदता आया था सिकंदर


भारत की सीमा पर ही थम गया था 
उसका विश्व-विजय-अभियान।
आज फिर विश्व को रौंदता आ गया है
अदृश्य सिकंदर
नए नाम, नए रूप में
थम गया है उसका विश्व-विजय-अभियान ।


युद्धरत हैं हमारे योद्धा 
कुशल सेनापति के नेतृत्व में ,
थाम ली है उसके बढ़ते रथ की लगाम।
जिस-जिस रूप में आए सिकंदर 
स्वयं ही नष्ट हो गए।
नष्ट हो जाएगा शीघ्र ही
यह भी, अदृश्य सिकंदर 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड के प्रतिभाशाली खिलाड़ीयो की 32 टीमे भाग ले रही है

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर