Wednesday, May 6, 2020

83% छात्रों का कहना है कि ‘जलवायु परिवर्तन वास्तविक


नयी दिल्ली : दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफार्म ब्रेनली ने अर्थ डे पर अपने भारतीय यूजर-बेस में सर्वेक्षण किया है। इस वर्ष कोविड-19 महामारी की पृष्ठभूमि में अर्थ डे पर इस सर्वे में छोटे व मध्यम आकार से लेकर महानगरों के 2963 प्रतिभागियों ने जवाब दिए, जिनमें ज्यादातर महानगरों से थे।


कोरोनोवायरस की पृष्ठभूमि में अर्थ डे पर कराए गए सर्वेक्षण के प्रमुख निष्कर्षों में से एक है- 83.9% छात्रों का कहना है कि जलवायु परिवर्तन वास्तविक है। फिर भी केवल 40.7% ने कहा कि यदि मौका मिले तो वे पर्यावरणीय मुद्दों पर एक ऑनलाइन सेशन में भाग लेना चाहते हैं। 71.2% छात्रों ने कहा कि उनकी रुचि पहले से ही जलवायु परिवर्तन के बारे में जानने में है और उनमें से 46% ने कहा कि वे अपने दम पर पर्यावरण व जलवायु परिवर्तन के बारे में शोध कर रहे हैं। इसके अलावा, 38.4% का कहना है कि वे टीवी के माध्यम से जागरूक हुए, 16.9% प्रिंट मीडिया के माध्यम से और 60.4% स्कूल में जागरुक हुए। हालांकि, वे यह भी महसूस करते हैं कि स्कूल में जागरूकता में सुधार की काफी गुंजाइश है। हालांकि, सिर्फ 57.5% ने कहा उन्हें 'स्कूल में पर्यावरणीय विषयों के बारे में पर्याप्त जानकारी दी जाती है।'


सर्वेक्षण में कुछ अन्य उल्लेखनीय पैटर्न भी सामने आए हैं। इससे पता चलता है किअधिकांश छात्र रचनात्मक होने के लिए घर पर अपने समय का उपयोग कर रहे हैं और धरती को संरक्षित करने के लिए डीआईवाय तरीकों को अपनाते हैं या किसी न किसी तरह बेहतरी में योगदान कर रहे हैं। अनावश्यक उपकरणों को बंद कर बिजली की बचत और जल संरक्षण पृथ्वी को बचाने के लिए उनकी सबसे आम गतिविधियां हैं। आधे से अधिक भारतीय छात्र प्रदूषण को पर्यावरण के लिए मुख्य खतरा मानते हैं। अधिकांश छात्र अपने पर्यावरण और ग्रह के प्रति जिम्मेदार हुए हैं और इस अर्थ डे पर बड़ी संख्या में उन्होंने ग्रह के संरक्षण में मदद की पहल की है। यह ट्रेंड बताता है कि छात्र किस तरह मामले अपने हाथों में ले रहे हैं और पर्यावरण के प्रति अपना काम करने के लिए हर मौके का उपयोग कर रहे हैं।


ऑनलाइन लर्निंग में अपने ऊंचे स्तर के अलावा ब्रेनली प्रासंगिक सर्वेक्षण जारी कर भारतीय छात्रों की आवाज़ बनने के लिए भी लोकप्रिय है, जो महत्वपूर्ण विषयों में मूल्यवान जानकारी देते हैं। भारत में लॉन्च होने के बाद से ब्रेनली ने 22मिलियन+ यूजर-बेस को रजिस्टर कर देश के सबसे प्रभावी ऑनलाइन लर्निंग चैनलों में से एक के रूप में अपनी योग्यता साबित की है। ऑनलाइन एजुकेशन, सोशल मीडिया और मशीन लर्निंग को मिलाने वाले ‘कम्यूनिटी लर्निंग’ मॉडल के साथ यह प्लेटफ़ॉर्म साथियों, अभिभावकों, शिक्षकों और विशेषज्ञों के व्यापक नेटवर्क की सुविधा देता है, जो छात्रों को सहयोगी, लचीले और व्यापक सीखने के अनुभव से साथ सशक्त बनाता है। इस सर्वेक्षण के निष्कर्ष यह दोहराते हैं कि कैसे ब्रेनली ने खुद को भारत में और साथ ही दुनिया भर में के-12 एजुकेशन के लिए सबसे पसंदीदा ऑनलाइन पोर्टल के रूप में स्थापित किया है।


Labels: