ई मार्केट प्लेस में भारत के 95% व्यापारियों को जोड़ने का बीड़ा उठाया


नयी दिल्ली - इस कार्यक्रम को पायलट के रूप में शुरू किया जिसमें शुरू में 6 शहरों में आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया जिसमें  प्रयागराज, गोरखपुर, वाराणसी, लखनऊ, कानपुर और बेंगलुरु शहर शामिल थे ! इन सभी शहरों  में रिटेलर्स  और उपभोक्ताओं का जबरदस्तबसहयोग मिला जिससे उत्साहित होकर अब फिलहाल पिछले दो हफ्तों  में यह  90 सर अधिक शहरों तक पहुंच गया है।कैट डीपीआइआइटी  के सक्रिय समर्थन और मार्गदर्शन के लिए बहुत आभारी हैं, क्योंकि लॉकडाउन अवधि के दौरान  देस के विभिन्न शेरोन में उपभोक्ताओं को आवश्यक वस्तुओं के वितरण में उनका बहुत सहयोग प्राप्त हुआ है !


कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ने  देश के सभी खुदरा व्यापारियों के लिए एक राष्ट्रीय ईकामर्स मार्केटप्लेस "भारतईमार्किट.इन " के जल्द ही लॉन्च करने की घोषणा की। इस ईकॉमर्स मार्केटप्लेस में कैट विभिन्न प्रौद्योगिकी कंपनियों की क्षमताओं को एकीकृत करेगा ताकि वे उपभोक्ताओं को उनके घर पर ही सामान की डिलीवरी सहित लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन को पूरे देश में इस पोर्टल के माध्यम से एकीकृत कर सके इस  ई-कॉमर्स पोर्टल में देश के खुदरा विक्रेताओं जिन्होंने वर्षों से भारतीय उपभोक्ताओं की सेवा की है और कई मामलों में पीढ़ियों तक भी उपभोक्ताओं के साथ सम्बंद बनाये हुए हैं की राष्ट्रीय स्तर पर भागीदारी होगी  । 


कैट  के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि पूरे देश में दूरदराज के क्षेत्रों में भी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में व्यापारियों की शानदार भूमिका को स्वीकार करते  कैट ने वाणिज्य मंत्रालय के डीपीआइआइटी के शुरूआती सहयोग से इस राष्ट्रीय ई मार्केटप्लेस में भारत के 95% खुदरा व्यापार को व्यापारियों को जोड़ने का बीड़ा उठाया है ! इसमें जुड़ने वाले व्यापारी इस पोर्टल के शेयरधारक भी होंगे  और यह पोर्टल व्यापारियों द्वारा, व्यापारियों का और व्यापारियों एवं उपभोक्ताओं का ही होगा जिसमें किसी बी प्रकार का विदेशी हस्तक्षेप नहीं होगा !व्यापारियों को ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर लाने के लिए। प्लेटफॉर्म पर प्रत्येक व्यापारी को बोर्ड पर, शेयरधारक होगा !


खंडेलवाल ने संबोधित करते हुए कहा कि पोर्टल डीपीआइआइटी के विभिन्न अनुभवों का एक उप उत्पाद है जिसके अंतर्गत कैट ने डीपीआईआईटी के साथ काम करते हुए लॉकडाउन की अवधि के दौरान देश भर में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सफलतापूर्वक सुनिश्चित की है । डीपीएआईआईटी  के तहत स्टार्टअप इंडिया डिवीजन ने उपभोक्ताओं द्वारा ऑनलाइन ऑर्डर करने के लिए स्थानीय किराना स्टोरों की मदद करने के लिए सप्लाई चेन में काम करने वाली विभिन्न कंपनियों और स्टार्टअप्स के प्रयासों को समन्वित लिया  है।