जिस पर परिंदे भी यक़ीन नहीं करते


टिप्पणियाँ