प्रेम की परिभाषा


परिणीता सिन्हा                                               


क्या है प्रेम ? क्या हो उसकी सटीक परिभाषा ?                                                                                                 एक वो जो शिशु की आँखो से झलकता  ၊                                                                  


या वो जो वृद्ध की आँखो से टपकता  ၊                                                                                                           यौवन प्रेम की सैकड़े। परिभाषाएं ग़ढता  ၊                                      


लेकिन ,सच्चा प्रेम कभी शेष पड़े भोजन का सॉझापन दिखाता ၊                                                                             तेा कभी कम बजट की साड़ी में भी संतोष जताता ၊                    


वो जो बस एक नजर से ही पीड़ा को भांप जाता , ढाढस बँधाता  ၊                                                                        धैर्य नहीं खोना , साथ मिल कर हर भार है ढोना ၊                        


हर शाम जिसके आने के इंतजार में कटती ၊                                                                                                 जिसके स्वाद के लिए वो पूरी दिनचर्या बुनती၊                  


कभी कभी जीवन के क्रम में कई बाते निकलती ၊                                                                                              कुछ उलझती तो कुछ सुलझती ၊    


वो जो एक दूसरे से थे बिल्कुल अनजान ၊                                                                                                         उनसे हो जाती वर्षो की पहचान ၊


मंडप के फेरो के इर्द-गिर्द वो जीवन भर घूमती ၊                                                                                         गठबंधन की ये गांठ , प्रेम की अदभुत परिभाषा गढ़ती ၊