गंगा जमनी तहज़ीब मैं मानूं ,पाखंड का खंडन करती हूँ


टिप्पणियाँ