जिस्म में तू जान तू ही है,प्रार्थनाओं में तू अज़ान तू ही है


टिप्पणियाँ