कविता // ग्रुप


विश्वेश्वर ढौण्डियाल


ग्रुप एक मेल है, विचारों का बंधन है।
 समूह का विलय है भावों का चमन है।
 अनेकता में एकता-ध्येय का एक संकल्प है,
 ज्ञान का एक कुंज है, समस्या का विकल्प है।


ध्येय का परिधान है, विज्ञान का हर ज्ञान है।
 उसे भी पथ दिखाता भूल से जो अनजान है।
 भविष्य का प्रवाह नित है वर्तमान का परिदृश्य।
 खोज का हर ज्ञान इसमें, जो अतीत के थे अदृश्य।


कई धागों की डोर यह,मजबूत बनती श्रृंखला।
 इस श्रंखला की राह में,अद्भुत है बनती है हर कला।
हर कला से हर एक सृजन, सृजन से होता है आधार,
 आधार से मंजिल है मिलती, यही तो है ग्रुप का सार।
          


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

डॉ सुब्बाराव की पुण्यतिथि पर शिविरार्थियों ने मानसरोवर में निकाली सदभावना रैली

आजादी के बाद भी बिरसा मुंडा को उचित सम्मान न दिए जाने पर निराशा