आत्मनिर्भर भारत की ओर एक पहल

उ०प्र० झांसी की नीलम सारंगी ने एक ऑनलाइन वेबीनार का आयोजन किया । जिसमें उन्होंने लोगों को पुरानी वस्तुओं को सजावटी सामान में परिवर्तित करना सिखाया । इस कला के माध्यम से इस आर्थिक संकट के समय में जीविका कमाने का एक माध्यम भी बताया और इस कला को एक मार्केट के तौर पर प्रदर्शित किया।




आयोजित सेमिनार में लोगों ने काफी उत्सुकता से इस विषय में रुचि दिखाते हुए कई महत्वपूर्ण सुझाव दिए। नीलम सारंगी कई सालों से स्वार्थ रहित होकर एक हरित झांसी  स्वच्छ झांसी के लिए लोगों को प्रेरित करती आई हैं ।और अब उन्होंने आत्मनिर्भर भारत के लिए भी आगे आकर लोगों को प्रेरित करना शुरू कर दिया है ।इस सेमिनार में डॉ नीति शास्त्रीय ,स्वप्निल  मोदी ,दिल्ली नगर निगम से सुषमा भंडारी ,रायबरेली से डॉक्टर ममता शुक्ला के साथ-साथ विभिन्न अन्य शहरों के लगभग 60 गणमान्य लोगों ने सहभागिता की।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

जेकेके में नाटक ‘नमकसार’ अगरिया समुदाय के संघर्ष का मंचन