अब तुरंत डिजिटल मोटर इंश्योरेन्स जारी हो जायेगा

भारत के गैर-महानगरों को सेवाएं प्रदान करने वाला यह बहु-भाषी प्लेटफॉर्म 11 क्षेत्रीय भाषाओँ  में उपलब्ध है, जो ऑनगो टर्मिनल्स के माध्यम से उपभोक्ताओं एवं सेवा प्रदाताओं की ज़रूरतों को पूरा करेगा। इसके अलावा, यह मंच उपभोक्ताओं की बीमा संबंधी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए कई कॉम्प्लीमेंटरी सेवाएं भी प्रदान करेगा जैसे इंटीग्रेटेड क्लेम मैनेजमेन्ट सिस्टम, ऑनलाईन पॉलिसी कैंसिलेशन एण्ड एंडोर्समेन्ट आदि।



नयी दिल्ली : भारत की आम जनता के लिए बीमा सेवाओं को लोकतांत्रिक बनाने के प्रयास में एजीएस ट्रांज़ैक्ट टेक्नोलॉजीज़ ने ग्लोबल-इंडिया इंश्योरेन्स ब्रोकर्स (जीआईआईबी) के सहयोग से ऐलान किया है कि ऑनगो मर्चेन्ट्स अब ऑनगो एंड्रोइड पीओएस टर्मिनल्स के माध्यम से अपने उपभोक्ताओं को तुरंत डिजिटल मोटर इंश्योरेन्स जारी कर सकेंगे। उद्योग जगत में पहली बार पेश किए गए इस समाधान के माध्यम से दोपहिया एवं चार-पहिया वाहनों के मालिक पूर्णतया डिजिटलीकृत एवं दस्तावेज रहित प्रक्रिया के माध्यम से सुलभ टचपॉइन्ट्स जैसे फ्यूल रीटेल स्टेशनों और स्थानीय/ किराना स्टोर्स से मोटर इंश्योरेन्स पा सकेंगे। पहले चरण में ऑनगो और जीआईआईबी के बीच इस साझेदारी के तहत 5000 ऑनगो एंड्रोइड पीओएस टर्मिनल्स के माध्यम से तकरीबन 25000 पॉलिसियां जारी की जाएंगी।


भारत का बीमा बाज़ार हर साल देश के जीडीपी की तुलना दोगुना बढ़ रहा है, फिर भी देश के तीसरे और चौथे स्तर के शहरों में बीमा सेवाओं की पहुंच बहुत कम है। आईबीईएफ के मुताबिक दोपहिया एवं कमर्शियल वाहनों की 70 फीसदी पॉलिसियां तथा चार पहिया वाहनों की 30 फीसदी पॉलिसियां निरस्त हो जाती है, दस्तावेजीकरण की लम्बी प्रक्रिया, जांच में देरी, बीमा एजेंन्ट्स की कमी तथा मोटर इंश्योरेन्स की आवश्यकता एवं समय पर नवीनीकरण के बारे में जागरुकता की कमी के चलते अक्सर उपभोक्ता अपनी पॉलिसी का नवीनीकरण नहीं करवाते हैं। ऑनगो और जीआईआईबी के बीच इस अनूठी साझेदारी से पॉलिसी जारी करने की प्रक्रिया बेहद आसान हो जाएगी, ऑनलाईन इन्सपेक्शन के चलते इस प्रक्रिया में लगने वाला समयकुछ दिनों से घटकर कुछ मिनटों तक पहुंच जाएगा।


इस नए फीचर के लॉन्च पर बात करते हुए महेश पटेल, ग्रुप चीफ़ टेक्नोलॉजी ऑफिसर, एजीएस ट्रांज़ैक्ट टेक्नोलॉजीज़ ने कहा, ‘‘ऑनगो की प्रणाली ऐसे डिजिटल समाधान पेश करती है जो मुश्किल मर्चेन्ट/उद्योग प्रक्रियाओं को आसान बनाकर उपभोक्ताओं को बेहतर अनुभव प्रदान करते हैं। ऑनगो मर्चेन्ट्स के व्यापक नेटवर्क का उपयोग कर तथा मैनुअल प्रक्रिया के डिजिटलीकरण द्वारा मोटर इंश्योरेन्स सेक्टर में मौजूद खामियों को दूर करने के उद्देश्य से हमने जीआईआई के साथ साझेदारी की है। इससे मौजूदा प्रक्रिया में लगने वाला समय कम होगा, साथ ही पूरी प्रक्रिया दस्तावेज रहित हो


जाएगी। हमें विश्वास है कि इस साझेदेारी से खासतौर पर छोटे शहरों एवं नगरों में मोटर बीमा सेवाओं की पहुंच बढ़ेगी और उपभोक्ता तीव्र डिजिटल सेवाओं का अनुभव पा सकेंगे। इससे निश्चित रूप से भारत के ‘डिजिटल इण्डिया दृष्टिकोण को गति मिलेगी।’’


इस साझेदारी पर बात करते हुए अभय दीप, संस्थापक एवं एमडी, ग्लोबल-इण्डिया इंश्योरेन्स ब्रोकर्स ने कहा, ‘‘जीआईआईबी में हम टेक्नोलॉजी की क्षमता का उपयोग कर उपभोक्ताओं और सेवा प्रदाताओं को सशक्त बनाने हेतू तत्पर हैं। ऑनगो के साथ हमारी यह साझेदारी बीमा सेवाओं को देश के लोगों के लिए और अधिक सुलभ बनाएगी। हाल ही के वर्षों  में बीमा क्षेत्र में उल्लेखनीय विनियामक विकास हुए हैं, जिससे बीमा बाज़ार पूरी तरह बदल गया है। यही कारण है कि हम अपने विस्तृत प्रोडक्ट पोर्टफोलियो के साथ बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं तक पहुंचने में सक्षम हैं। ऑनगो के साथ साझेदारी करते हुए हमें बेहद खुशी का अनुभव हो रहा है; उनके संचालन के पैमाने, भरोसेमंद मर्चेन्ट आधार एवं भविष्य  के लिए तैयार तकनीकों के मद्देनज़र हम इस साझेदारी को लेकर बेहद आश्वस्त हैं।’’


भारत के गैर-महानगरों को सेवाएं प्रदान करने वाला यह बहु-भाषी प्लेटफॉर्म 11 क्षेत्रीय भाषाओँ  में उपलब्ध है, जो ऑनगो टर्मिनल्स के माध्यम से उपभोक्ताओं एवं सेवा प्रदाताओं की ज़रूरतों को पूराकरेगा। इसके अलावा, यह मंच उपभोक्ताओं की बीमा संबंधी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए कई कॉम्प्लीमेंटरी सेवाएं भी प्रदान करेगा जैसे इंटीग्रेटेड क्लेम मैनेजमेन्ट सिस्टम, ऑनलाईन पॉलिसी कैंसिलेशन एण्ड एंडोर्समेन्ट आदि।


सेर्टिफाईड एजेन्ट (पीओएसपी) बनने के लिए ग्लोबल इण्डिया इंश्योरेन्स ब्रोकर्स, ऑनगो मर्चेन्ट्स को विभिन्न भाषाओँ  में आईआरडीए अनुमोदित प्रशिक्षण/ एमआईएसपी सेर्टिफिकेशन प्लेटफॉर्म भी उपलब्ध कराएगा, जो सुनिश्चित करेगा कि पीओएसपी को उपयोगकर्ता के अनुकूल, सरल एवं सुरक्षित पॉलिसियां उपलब्ध कराने के लिए प्रशिक्षित किया जा सके।