कविता // भ्रूणहत्या                          



जुली सहाय


जाने कैसे  मार डाली जाती है लड़कियाँ गर्भ में ही,
भले ही पूजी जाती होगी देवी
दुर्गा ,लक्ष्मी ,सरस्वती घर-घर मे, पर सच है
देवी को पूजे जाने वाले घर मे भी मार डाली जाती है लड़कियाँ


अपनी काया में काँटा भी चुभे तो दर्द ही दर्द होता है၊
पर सेांचो ,गर्भ में अपनी ओर आते औज़ारों को देख
कैसे डर से काँप जाती होंगी लड़कियाँ၊


जब मुझको डर सताए जाकर छुप जाती हूँ၊
कोठरी में,और बन्द करती हूँ किवाड़, पर सोचो
गर्भ में कहाँ छिप पाती होंगी लड़कियाँ,और सहज ही
मारी जाती होंगी लड़कियाँ ,पर क्या  अपने ही अंगो 
को खोकर सहज हो पाती होंगी लड़कियाँ                                                                                                            या अपने ही नज़रो में पश्चताप में जीती होंगी लड़कियाँ।।


 


 


 


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद