कविता // कभी कभी मन भर आता है


विजय सिंह बिष्ट


कभी कभी मन भर आता है
गांवों से इन बाजारों से,
कुटिया से इन दीवारों से,
गलियों से इन चौराहों से
टूटा टूटा सा नाता है।
कभी कभी मन भर आता है।


चलते चलते जीवन पथ में,
देख गरीबी की उलझन में,
लक्ष्य विहीन से जीवन पथ में।
कभी कभी पग रुक जाता है,
कभी कभी मन भर आता है।।


अल्प अतुल बैभव को पाकर,
क्षृगार मनमोहक सजाकर,
नव लय नव ताल सुनाकर,
मन सरगम बन जाता है
कभी कभी मन मयूर बन जाता है।।


जब घोर निराशा हो मन में,
रातों की नींद उड़ जाये आंखों में,
स्वपनिल सा जीवन लगता है,
बुझा बुझा सा दीपक लगता है।।
कभी कभी मन भर आता है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

डॉ सुब्बाराव की पुण्यतिथि पर शिविरार्थियों ने मानसरोवर में निकाली सदभावना रैली

आजादी के बाद भी बिरसा मुंडा को उचित सम्मान न दिए जाने पर निराशा