कविता // मासूम की सर्च


शालिनी तनेजा


एक दिन बच्चा बोला माँ से 
     चलो पापा को सर्च करें 
डॉट कॉम पर मिलते पापा   
      अमेजॉन भी ऑफर दे 


जिसने सुना हँसी आ गई
    मां का ह्रदय चीत्कार करें 
क्यों ढूंढे बच्चा पापा को 
      इस पर भी कुछ गौर करें 


ताने -बाने जब उलझें रिश्तों के  
       भाव गौण हो जाते हैं 
खून के रिश्ते भी जाने क्यों ?  
       अक्सर मौन हो जाते हैं


मातृत्व भाव रख सबसे ऊपर   
     नारी सब कुछ सह जाती है 
अहम पुरुष का पर जाने क्यों?
     सबसे ऊपर हो जाता है


 दरकें, रिश्तों के शीशे जब 
     टुकड़े चहुॅ और बिखरते हैं  
   सबसे ज्यादा मासूमों को   
          लहूलुहान वो करते हैं        


गर उस पल में, जब टूटे "रिश्ता "    
   प्यार"बड़ा"अहम" से हो जाएगा 
  कोई मासूम ना अपनी माँ से 
      पापा को सर्च कराएगा


 


 


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड के प्रतिभाशाली खिलाड़ीयो की 32 टीमे भाग ले रही है

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर