कमजोर डॉलर ने गोल्ड और बेस मेटल्स को सपोर्ट किया;लीबिया में ऑयल प्रोडक्शन बढ़ने से क्रूड हुआ कमजोर

कमजोर अमेरिकी डॉलर ने स्पॉट गोल्ड और बेस मेटल की कीमतों को समर्थन दिया जिससे वह हरे रंग में बंद हुआ। चीन की बढ़ी हुई आर्थिक गतिविधियों ने औद्योगिक धातुओं का समर्थन किया। क्रूड ऑयल में तेल उत्पादन में वृद्धि और महामारी के व्यापक प्रभाव के बीच मामूली रूप से कमजोरी दिखी।



सोना


स्पॉट गोल्ड 0.28% की तेजी के साथ और डॉलर के कमजोर होने से 1,904.3 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ, जिससे पीली धातु अन्य मुद्राओं के मुकाबले सस्ती रही। हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने स्पष्ट किया कि आगामी राष्ट्रपति चुनावों से पहले अमेरिका में नया कोरोनोवायरस रिलीफ फंड जारी हो सकता है, इससे बढ़ी उम्मीदों ने अमेरिकी डॉलर को कमजोर किया।


गोल्ड को इन्फ्लेशन और मौद्रिक कमजोरी के खिलाफ मजबूत बचाव माना जाता है और 2020 में कम ब्याज दर और ग्लोबल सेंट्रल बैंक की ओर से भारी मात्रा में तरलता प्रदान करने से 25% की तेजी आई है। इसके अलावा, यूरोप में महामारी के ट्रिगर पर अंकुश लगाने और ग्लोबल कोरोनावायरस मामलों के 40 मिलियन को पार करने से निवेशकों के बीच सेफ हेवन असेट गोल्ड की अपील बढ़ी है।हालांकि, अतिरिक्त कोरोनावायर रिलीफ फंड पर अनिश्चितता से पीली धातु की कीमतों में कमी आ सकती है।


कच्चा तेल


डब्ल्यूटीआई क्रूड 0.12% की मामूली गिरावट के साथ और 40.8 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर बंद हुआ क्योंकि दुनियाभर में महामारी का असर बढ़ा है। लीबिया के तेल उत्पादन में भारी बढ़ोतरी से क्रूड की कीमतों में गिरावट आई। कई यूरोपीय सरकारों ने दुनियाभर में कोरोनोवायरस के मामलों में खतरनाक वृद्धि के बाद फिर से प्रतिबंध जारी किए हैं। वायरस केस के फिर बढ़ने से तेल की वैश्विक मांग को कमजोर हुई और कीमतों में गिरावट आई। हालांकि, यू.एस. में अतिरिक्त प्रोत्साहन सहायता पर संभावित डील की आशाओं ने कीमतों में गिरावट को रोक दिया। विदेशी मांग बढ़ने के बीच हाल के महीनों में सऊदी अरब के क्रूड एक्सपोर्ट में तेजी आई। ऑयल का निर्यात अगस्त 2020 में 5.97 मिलियन बैरल प्रति दिन था। वायरस की दूसरी लहर ने जो चिंताएं पैदा की है वह कच्चे तेल के लिए आउटलुक को कमजोर कर सकती हैं, जिससे कीमतों में और कमी आएगी।


बेस मेटल्स


चीन की अर्थव्यवस्था में तेजी आते ही एलएमई पर बेस मेटल्स हरे रंग में बंद हुए। कमजोर अमेरिकी डॉलर ने भी कीमतों का समर्थन किया। चीन की जीडीपी 2020 की दूसरी तिमाही में जुलाई 2020 से सितंबर 2020 तक लगभग 4.9% बढ़ी, जिसने औद्योगिक धातुओं की मांग को और बढ़ा दिया। चीन का प्रायमरी एल्युमीनियम उत्पादन सितंबर’20 में 7.9% बढ़ा और 3.16 मिलियन टन रहा। चीन में पेश किए गए नए स्मेल्टर्स में वृद्धि से उत्पादन में वृद्धि हुई है। स्टेनलेस स्टील सेग्मेंट की बढ़ती मांग के बीच निकेल ने एलएमई और एमसीएक्स पर क्रमश: 1% और 3% की बढ़त हासिल की।


कॉपर


एलएमई कॉपर 0.59% से अधिक की बढ़त के साथ बंद हुआ और चीन की अर्थव्यवस्था में मजबूत विस्तार के बीच 6,779.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुआ, जिसने लाल धातु की कीमतों का समर्थन किया। हालांकि, कोविड-19 मामलों में खतरनाक वृद्धि और अमेरिका में अतिरिक्त कोरोनावायरस रिलीफ फंड पर अनिश्चितता चीन की मांग को बढ़ा सकती है और औद्योगिक धातु की कीमतों को कम कर सकती है।