माता का दरबार ( पैरोड़ी)


सुषमा भंडारी


तेरा सजा है दरबार ओ मैया
हो रही जय-जयकार ओ मैया
हर लो सारे संकट मैया 
डूब रही है जीवन नैया
दुनिया है उस में सवार ओ मैया
तेरा -----------
संकट कोरोना का छाया
जन- जीवन पल-पल घबराया 
त्रस्त हुआ संसार ओ मैया
तेरा-----
थम- सा गया है सारा जीवन
चुप्प है सारी धरती - आंगन 
है जन-जन लाचार ओ मैया
तेरा--------
छिप कर के दुश्मन ये आया
दुनिया को इसने चकराया
तू ही कर उपचार ओ मैया
तेरा-------
छूने से होती बीमारी
आई है ये विपदा भारी
जूझ रहा एतबार ओ मैया
तेरा ------


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद

मुंबई उपचुनाव में MEP का शानदार प्रदर्शन : दिल्ली MCD चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला

आजादी के बाद भी बिरसा मुंडा को उचित सम्मान न दिए जाने पर निराशा