बच्चों की परवरिश में पिता की भूमिका' पर आधारित छायाचित्रों की तीन दिवसीय प्रदर्शनी

० कल्याण सिंह कोठारी ० 

जयपुर - जवाहर कला केंद्र के सुरेख ऑर्ट गैलरी में 'बच्चों की परवरिश में पिता की भूमिका' पर आधारित छायाचित्रों की तीन दिवसीय प्रदर्शनी का समापन हुआ। प्रदर्शनी अंतराष्ट्रीय फादर्स डे के अवसर पर 'खाना- खेल- प्यार' के विषय पर आयोजित की गई। राजस्थान यूनिसेफ एवं लोक संवाद संस्थान के तत्वावधान में आयोजित इस तीन दिवसीय प्रदर्शनी में देश के विभिन्न भागों से 200 से अधिक प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। छाया चित्रों में से प्रदर्शनी के लिए विशेष जूरी द्वारा 38 छाया चित्रों का चयन किया गया।
जयपुर स्थित चयनित प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र यूनिसेफ के संप्रेषण विशेषज्ञ अंकुश सिंह, प्रदर्शनी क्यूरेटर डॉ. ताबिना अंजुम, फोटोग्राफर प्रो. हिमांशु व्यास, पुरुषोत्तम दिवाकर, महेश स्वामी, सचिव कल्याण सिंह कोठारी द्वारा प्रदान किए गए। प्रतिक्रिया देने वाले अनेकों दर्शकों में शामिल पूर्व आई ए एस अधिकारी राजेन्द्र भानावत दर्शक पुस्तिका में लिखा कि 'तस्वीरें एक फ्रेम में इतना कुछ कह देती हैं जो हजार शब्दों में नहीं कहा जा सकता।' इस प्रदर्शनी को लेकर जयपुरवासियों में बहुत उत्साह था और लगभग 1000 से भी अधिक दर्शकों ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड के प्रतिभाशाली खिलाड़ीयो की 32 टीमे भाग ले रही है

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर