हिंदुस्तान वापसी पर हाजियों का स्वागत और सम्मान

० इरफान राही ० 

 नयी दिल्ली -पवित्र शहरों मक्का मदीना में हज का फ़रीज़ा अदा करने के बाद हिंदुस्तान वापसी पर तमाम हाजियों का शानदार इस्तक़बाल का सिलसिला जारी है । इसी कड़ी में पश्चिमी दिल्ली के उत्तम नगर इलाक़े में हाजियों का इस्तकबाल किया गया जिसमें सीरत एजुकेशनल एंड वेलफेयर एसोसिएशन सेवा के पदाधिकारियों तथा सैफी समाज के वरिष्ठ लोगों ने उत्तम नगर ओम विहार फेज़ 5 के हाजी यूसुफ़ ख़ान सैफ़ी व इनके भतीजे ‌नौजवान हाजी मोहम्मद चांद सैफ़ी (‌उपैड़ा वालों) , डी ब्लॉक फेस 5 के हाजी रईस मुल्लाजी सिहानी वाले, ओम विहार ख़ुशीराम पार्क के हाजी रजनीश सैफ़ी व इनके चाचा हाजी शफ़ीक़ अहमद सैफी‌ ( सौल्दे वालों) का शानदार इस्तकबाल किया और हाजियों से गले मिलकर , बैज लगाकर , फूल माला पहनाकर मुबारकबाद पेश की, यहां से कुल‌‌ 11 लोग हज के सफ़र पर गए थे जिनमें ख़वातीन भी शामिल हैं।

मुबारकबाद देने वालों में सैफी समाज के वरिष्ठ लेखक समाजसेवी तथा सरपरस्त मास्टर अली शेर सैफी,‌ सैफी समाज के नेता तथा भारतीय सैफी डे कमेटी के पदाधिकारी प्रधान कल्लू ख़ान सैफी, हिंदी उर्दू के कवि तथा पत्रकार इरफ़ान राही सैदपुरी सैफ़ी, सैफ़ी वेलफेयर एसोसिएशन ऑफ दिल्ली स्वाद के पदाधिकारी इलियास प्रधान सैफी, ताजपुर नरेला दिल्ली से दिल्ली माइनॉरिटी कमीशन के मुस्लिम एडवाइजरी मेंबर सेठ मेहरउद्दीन सैफी, सैफी समाज के रिश्ते नाते कराने वाले जनाब दाऊद अली सैफी, उत्तम नगर से जनाब कमालुद्दीन सैफ़ी, राजू सैफ़ी, रहीमुद्दीन सैफ़ी, माजिद सैफ़ी, नवाब सैफ़ी आदि मौजूद रहे।

उल्लेखनीय है कि‌‌ कोरोन काल कोविड-19 के बाद 2 साल तक हज का सफर बंद रहा और इस साल 2022 में बड़ी तादाद में हज के लिए आवेदन किए जिसमें से लगभग चुनिंदा 80 हज़ार मुसलानों को भारत से हज करने की इजाज़त मिली । लिहाज़ा हज कमेटी ऑफ इंडिया और प्राइवेट एजेंसी के माध्यम से 80,000 मुसलमान हज को गए वहीं सऊदी अरब में दुनिया भर से तक़रीबन 10 लाख मुसलमानों ने एक साथ हज किया। हज इस्लाम के ज़िल हिज्जा महीने में सऊदी अरब स्थित मक्का मदीना नामक दो पवित्र शहरों में वहां मस्जिदों में ख़ास इबादत कर की जाती है हज को धनी मुसलमानों पर फ़र्ज़ किया गया है और चांद की 10 तारीख को ईद उल अज़हा मनाई जाती है जिसमें कुर्बानी करके उसके गोश्त का अधिकतर हिस्सा ग़रीबों को वितरित किया जाता है।

टिप्पणियाँ