आचार्य प्रशांत को बिट्स पिलानी - गोवा परिसर में आमंत्रित किया गया

० योगेश भट्ट ० 

गोवा: बेस्टसेलिंग लेखक और वेदांत शिक्षक आचार्य प्रशांत को प्रसिद्ध कॉलेज बिट्स पिलानी (गोवा कैंपस) में आमंत्रित किया गया । उन्होंने भरी सभा को संबोधित किया। वक्ता के स्वागत और अभिनंदन के लिए बिट्स गोवा के निदेशक प्रो. सुमन कुंडू और एसोसिएट डीन प्रो. सचिन वालगांवकर उपस्थित थे।
आयोजन समिति के सदस्य श्री रोहित राज़दान ने कहा, "बिट्स पिलानी में आमंत्रित होना खुशी की बात थी। आचार्य प्रशांत ने अपने विचारों और ज्ञान को साझा किया और युवाओं की मदद के लिए उनके जीवन और करियर से संबंधित सवालों के जवाब दिए।

आचार्य प्रशांत के नियमित रूप से कई सुप्रसिद्ध विश्वविद्यालयों में सत्र आयोजित होते हैं जैसे कि IITs, IIMs, AIIMS, इत्यादि । यहाँ बिट्स गोवा के विद्यार्थियों ने कैरियर, संबंध, विवाह जैसे विषयों पर कई प्रश्न पूछें। जीवन के उद्देश्य और अर्थ पर, तथा शांतिपूर्ण और आनंदपूर्ण जीवन जीने के रहस्य पर भी जिज्ञासाएँ की गई। इसके अतिरिक्त, विद्यार्थीयों ने सामाजिक मुद्दों पर भी प्रश्न पूछें, जैसे कि महिला सशक्तिकरण, पशु अधिकार, पर्यावरण संरक्षण इत्यादि। आचार्य प्रशांत ने अपने उत्तरों के माध्यम से समस्याओं की जड़ तक जाकर विद्यार्थियों को स्पष्टता और बोध प्रदान किया ।

आचार्य प्रशांत के बारे में - आचार्य प्रशांत स्वयं भारत के सर्वश्रेष्ठ शैक्षणिक संस्थानों, IIT और IIM के छात्र रह चुके हैं। वे ICSE बोर्ड टॉपर तथा NTSE छात्रवृत्ति धारी भी रह चुके हैं। वे पूर्व में सिविल सेवा अधिकारी भी रहे हैं । प्रशांत अद्वैत संस्था का संस्थापन करने के पूर्व वे कई प्रमुख संस्थानों में भी नियुक्त रह चुके हैं जैसे कि GE Capital, ECS और Bennett, Coleman & Co. वे विश्वभर में अपनी अमूल्य शिक्षा सोशियल मीडिया, ऑनलाइन प्रवचन तथा लेक्चर, विवाद, मासिक वेदांत महोत्सव और मल्टी प्लेटफॉर्म परामर्श सेवा के माध्यम से साझा करते हैं।

उनके द्वारा रचे गए 10,000 से अधिक विडियो और लेख हिन्दी तथा अंग्रेजी में उपलब्ध हैं। उनकी कुल रचनाओं का समूह इन्टरनेट पर उपलब्ध बोध सामग्री का सबसे प्रचंड भंडार है। उनके विडियो प्रतिदिन कुल दो करोड़ से अधिक मिनटों के लिए देखे जाते हैं, और संचयी तौर पर 100 करोड़ से अधिक मिनट देखे गए हैं। आचार्य जी की पुस्तकों के निर्भय संदेश द्वारा मनुष्यों का, पशुओं का, बल्कि पृथ्वी का सुधार हुआ है। उन्होंने 80 से अधिक किताबें लिखी हैं। आनंद, प्रेम, विवाह जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर उन्होंने लिखा है। साथ ही, ग्रन्थों पर भी उनके भाष्य हैं। इस सूची में शामिल है उनकी राष्ट्रीय बेस्टसेलर "कर्म" व अभिनव रचना "आनंद"। उनकी 6 पुस्तकें अमेज़न पर बेस्टसेलर हैं

टिप्पणियाँ