अगस्त क्रांति आंदोलन 1942 के नायकों की स्मृति में समारोह 8 अगस्त को नयी दिल्ली में

० योगेश भट्ट ० 

नयी दिल्ली -  8 अगस्त को अपराह्न 2 बजे से लोदी रोड,नयी दिल्ली स्थित इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के सभागार में आजादी के 75 वें वर्ष में अमृत महोत्सव के अवसर पर " 1942 की अगस्त क्रांति यानी अंग्रेजो भारत छोडो़ आंदोलन के भूले - विसरे नायकों की पुण्य स्मृति" में लोकनायक जयप्रकाश अंतरराष्ट्रीय अध्ययन विकास केन्द्र ने एक समारोह का आयोजन किया है । स्मरणीय है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के "अंग्रेजो भारत छोड़ो" और "करो या मरो" के आह्वान पर 1942 के अगस्त क्रांति आंदोलन में देश के बहुतेरे महत्वपूर्ण नेताओं और असंख्य क्रांतिकारियों ने देश की आजादी की खातिर स्वयं को होम कर दिया था। 
देश को आजाद कराने में उनकी महत्वपूर्ण गौरवशाली भूमिका न केवल प्रशंसनीय है बल्कि स्तुतियोग्य भी है जो सदा-सदा प्रेरणादायक रहेगी । उनके राष्ट्र रक्षा की दिशा में अविस्मरणीय योगदान और उनकी स्मृति को आज की नई पीढ़ी को अवगत कराने की महती आवश्यकता है। इसी उद्देश्य के तहत इस आयोजन में आपकी गरिमामयी उपस्थिति सादर प्रार्थनीय है। इस समारोह में प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता एवं मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित संदीप पाण्डेय, प्रख्यात पत्रकार एवं माधवराव सप्रे संग्रहालय भोपाल के संस्थापक पद्मश्री माननीय डा० विजयदत्त श्रीधर, प्रख्यात कथाकार चित्रा मुद्गल, प्रख्यात समाजवादी चिंतक रघु ठाकुर, 

 सांसद वीरेन्द्र सिंह, जुझारू नेता एवं सांसद संजय सिंह, सांसद समीर उरांव , सांसद  दुलाल चंद्र गोस्वामी , प्रख्यात पत्रकार एवं वैदेशिक मामलों के विशेषज्ञ डा० वेद प्रताप वैदिक, प्रख्यात पत्रकार राहुल देव, "लहू बोलता भी है"(जंगे आज़ादी ए हिन्द के मुस्लिम किरदार) नामक पुस्तक के लेखक शाहनवाज कादरी , प्रख्यात इतिहासकार डा० संतोष कुमार पटैरिया, साहित्यकार अलका सिन्हा आदि जाने माने साहित्यकार, इतिहासकार, चिंतक एवं पत्रकार समारोह में अपनी सहभागिता कर रहे हैं।

टिप्पणियाँ