देश की 30 महिलाओं को सराहनीय कार्य के लिए किया गया सम्मानित

० योगेश भट्ट ० 

नई दिल्ली । महिलाएं केवल घर परिवार की ही जिम्मेदारी नहीं संभालती हैं बल्कि देश के विकास में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान है। बच्चों को अच्छे संस्कार देने में उनकी बहुत बड़ी भूमिका होती है। महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए समाज को उनके प्रति दृष्टिकोण बदलना होगा। कुछ इस प्रकार के विचार नई दिल्ली में वुमेन इन लीडरशिप कांक्लेव -2022 में वक्ताओं ने व्यक्त किए। कान्कलेव का आयोजन सामाजिक संस्था सोसायटी फॉर हेल्थ एंड एंपावरमेंट आँफ वूमेन 'SHE' और लोक कला परिषद द्वारा किया गया। कॉन्क्लेव में राज्यसभा सांसद गीता शाक्य मुख्य अतिथि थीं और नई दिल्ली नगर पालिका परिषद की सदस्य विशाखा शैलानी सम्मानित अतिथि थीं।

SHE की अध्यक्ष प्रीति तिवारी ने सम्मानित अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि उनकी संस्था लोगों के स्वास्थ्य, विशेष रूप से महिलाओं के स्वास्थ्य, स्वच्छता और पर्यावरण में सुधार के लिए कार्य करती है। यह संस्था पुरुषों और स्त्रियों में समानता और महिलाओं तथा बालिकाओं के अधिकारों के लिए भी कार्य करती है। सांसद श्रीमती शाक्य ने कहा कि जिस तरह पुरुषों की सफलता के पीछे स्त्री का हाथ होता है, उसी तरह महिलाओं के आगे बढ़ने के लिए भी पुरुषों का सहयोग और समर्थन जरूरी है। महिलाएं और पुरुष एक-दूसरे के पूरक हैं। उन्होंने कहा कि 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ', उज्जवला योजना, घर घर में शौचालय और करोड़ों रुपयों की आर्थिक सहायता से प्रधानमंत्री ने महिलाओं का सम्मान और आत्म-विश्वास बढ़ाया है। उनके मंत्रिमंडल में 11 मंत्री महिलाएं हैं। आज देश की राष्ट्रपति भी एक महिला है। समय बदल रहा है। मैं स्वयं भी अपने गांव की प्रधान रही हूं।

 विशाखा शैलानी ने कहा कि नारी प्रेम की शक्ति है। वह मायके और ससुराल दोनों परिवारों का मान बढ़ाती है। शिक्षित महिला अपने बच्चों को अच्छे संस्कार दे सकती है, यही हमारी विरासत है। आज महिलाएं कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं और उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में अच्छा नाम कमाया है। वे घर भी संभालती हैं और बाहर भी काम करती हैं। समारोह में विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य करने के लिए 30 महिलाओं को भी सम्मानित किया गया। इन में पर्यावरण,खेलकूद, योग, सामाजिक कार्य, कानून, कला, संस्कृति और साहित्य, उद्यमिता तथा पुलिस सेवा जैसे क्षेत्र शामिल हैं। सम्मान के रूप में उन्हें एक पौधा, शाल और शील्ड भेंट की गई। कॉन्क्लेव के सफल आयोजन के लिए SHE संस्था की अध्यक्ष प्रीति तिवारी और लोक कला परिषद के अध्यक्ष संजीव कुमार को भी सम्मानित किया गया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन