36वें राष्ट्रीय खेल,7,000 एथलीटों के 36 स्पर्धाओं में भाग लेने की उम्मीद

० संवाददाता द्वारा ० 
अहमदाबाद -36वें राष्ट्रीय खेल, जिसकी थीम ‘खेल से एकता का उत्सव’ (सेलिब्रेटिंग यूनिटी थ्रू स्पोर्ट्स) है, सात साल के अंतराल के बाद आयोजित किए जा रहे हैं और 29 सितंबर से 12 अक्टूबर तक चलेंगे। राज्य के कम से कम छह शहर - अहमदाबाद, गांधीनगर, सूरत, वडोदरा, राजकोट और भावनगर - मेजबान की भूमिका में होंगे। नई दिल्ली ट्रैक साइक्लिंग स्पर्धा की मेजबानी करेगा। 28 राज्यों और आठ केंद्र शासित प्रदेशों के लगभग 7,000 एथलीटों के 36 स्पर्धाओं में भाग लेने की उम्मीद है, जिनमें सर्वाधिक पारंपरिक ओलंपिक खेल भी शामिल हैं। मल्लखंब और योगासन जैसे स्वदेशी खेल भी पहली बार राष्ट्रीय खेलों में शामिल होंगे

36वें राष्ट्रीय खेलों का पूर्वावलोकन कार्यक्रम गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में अहमदाबाद के ईकेए एरिना ट्रांसस्टेडिया में आयोजित किया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल तथा केंद्रीय युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री अनुराग ठाकुर इस आकर्षक कार्यक्रम में शामिल होंगे। इस भव्य समारोह में राज्य भर से 9,000 से अधिक गणमान्य व्यक्तियों के शामिल होने की उम्मीद है।

पूर्वावलोकन कार्यक्रम में खेल के शुभंकर और गान के शुभारम्भ के साथ-साथ एक विशिष्ट वेबसाइट और मोबाइल एप्लिकेशन का अनावरण भी किया जाएगा तथा यही देश के सबसे बड़े खेल आयोजन की शुरुआत होगी।गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा, "हम राष्ट्रीय खेलों का आयोजन करके खुश और गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।" उन्होंने कहा, "हम भारत के शीर्ष एथलीटों और अधिकारियों का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं तथा इसे अब तक का सबसे अच्छा खेल आयोजन बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे हैं।"

गणमान्य व्यक्ति, जो कार्यक्रम में उपस्थित रहेंगे, उनमें गुजरात के खेल, युवा और सांस्कृतिक गतिविधि मंत्री  हर्ष सांघवी; अहमदाबाद के मेयर किरीटकुमार जे. परमार; भारतीय ओलंपिक संघ के कार्यवाहक अध्यक्ष अनिल खन्ना; केंद्रीय युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय की सचिव सुजाता चतुर्वेदी, आईएएस, शामिल हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन