सहज, सरल, मधु भाषिणी, हिन्दी तीर्थ धाम

० सुषमा भंडारी ० 
हिंदी का उत्थान ही,है मेरा उत्थान
सोचे गर हर भारती, रूठे ना मुस्कान।

शिक्षा की नव नीतियां , लाई हैं उपहार
मातृ भाषा कह रही , हिन्दी से परिवार।

हिन्दी का गुणगान ही, है भारत की शान।
हिंदी की पहचान, से, हों राहें आसान।।

अंग्रेजी है दूसरी, है सौतन स्वरूप।
हिन्दी ममता से भरी, इसका रूप अनूप।।


हिंदी का आधार ही, है सेतु समकक्ष।
तकनीकी आधार से, ये ही सब से दक्ष ।।

सहज, सरल, मधु भाषिणी, हिन्दी तीर्थ धाम ।।
जन- मन को ये जोडती, देती नित आयाम।।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन