केंद्र सरकार मवेशियों के मल-मूत्र के माध्यम से किसानों की आमदनी बढ़ाने के स्रोत को मजबूत बनाएगी

० योगेश भट्ट ० 
"हमें यह सोचना होगा कि हम जानवरों की बीमारियों को एक देश से दूसरे देश में कैसे रोक सकते हैं। केंद्र सरकार, राज्य सरकार और दुग्ध सहकारी समितियों को स्थिति से उबरने और बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए एक साथ आना होगा।"

ग्रेटर नोएडा । केंद्र सरकार ने कहा कि दुग्ध व दुग्ध उत्पाद को वित्तीय लाभ दिलाने के साथ मवेशियों के मल-मूत्र के माध्यम से किसानों की आमदनी बढ़ाने के स्रोत को मजबूत बनाएगी। इससे छोटे और सीमांत किसानों को लाभ मिलेगा, साथ ही दुधारू पशुओं के कृत्रिम गर्भाधान और उनके टीकाकरण पर बल दिया गया। यहां एक्सपो मार्ट सेंटर में आईडीएफ वर्ल्ड डेयरी समिट- 2022 को संबोधित करते हुए केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि आज मवेशियों के कचरे का उपयोग बायोगैस, उर्वरक प्लास्टर या पेंट आदि बनाने के लिए किया जा रहा है। यह एक अच्छी बात है। इससे किसानों की आय का साधन भी और मजबूत होगा। श्री सिंह 'इवोल्यूशन ऑफ डेरी ए लाइवलीहुड पर्सपेक्टिव' नामक सत्र में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार कृत्रिम गर्भाधान को बढ़ावा देकर गाय और भैंस की उत्पादकता को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। एनडीडीबी और एनडीडीबी डेयरी सर्विसेज के माध्यम से सालाना 5.1 करोड़ वीर्य स्ट्रा के साथ भारत इस क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रहा है और इससे पशु अनुवांशिकी के तहत ₹12 करोड़ सालाना आमदनी हो रही है। वहीं समिट के दूसरे दिन 'ट्रेंड्स इन एनिमल हेल्थ' नामक सत्र को संबोधित करते हुए केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ संजीव बालियान ने कहा कि सुअरों के अलावा अन्य पशुओं में भी अफ्रीकी स्वाइन फ्लू की समस्याएं पैदा हो रही है, इस बीमारी को दूर करने के उपायों के लिए सरकार हमेशा तत्पर है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार दूध और कृत्रिम गर्भाधान और मवेशियों के सार्वभौमिक टीकाकरण से परे मूल्य बनाकर डेयरी क्षेत्र और डेयरी किसानों की सहायता करेगी। 

डॉ. संजीव बाल्यान ने डेयरी क्षेत्र के सामने चुनौतियों से निपटने का भरोसा दिलाते हुए कहा कि भारत अपने सभी मवेशियों का टीकाकरण करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। हालाँकि यह एक कठिन काम है। बाल्यान ने कहा कि "हमें यह सोचना होगा कि हम जानवरों की बीमारियों को एक देश से दूसरे देश में कैसे रोक सकते हैं। केंद्र सरकार, राज्य सरकार और दुग्ध सहकारी समितियों को स्थिति से उबरने और बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए एक साथ आना होगा। मदर डेयरी सहित सहकारी समितियों से आग्रह करते हुए डॉ. बाल्यान ने कहा कि सभी सहकारी समितियों को पशु सेवाओं के अमूल मॉडल को दोहराना चाहिए।

सत्र में उपमन्यु बसु, संयुक्त सचिव (पशुधन स्वास्थ्य) पशुपालन विभाग, मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय, भारत सरकार की भागीदारी देखी गई, जिसमें उन्होंने सरकार के राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम के बारे में बात की। उन्होंने बताया कि एनएडीसीपी का लक्ष्य आने वाले वर्षों में एफएमडी और ब्रुसेलोसिस को नियंत्रित करना है क्योंकि उन्होंने एनएडीसीपी प्रोग्राम आर्किटेक्चर, कार्यक्रम के तहत एफएमडी के खिलाफ टीकाकरण के एंड-टू-एंड प्रोसेस मैप के साथ-साथ रोडमैप और आगे का रास्ता दिखाया। सत्र में अन्य प्रमुख वक्ताओं में डॉ हिरुफुमी कुगिता, एशिया-प्रशांत के लिए वर्ल्ड आर्गेनाईजेशन ऑफ एनिमल हेल्थ के क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व के प्रमुख और मैसी विश्वविद्यालय, न्यूजीलैंड प्रोफेसर डॉ. स्कॉट मैकडॉगल शामिल थे। उनके अलावा प्राकृतिक संसाधन संस्थान, फिनलैंड के वैज्ञानिक डॉ अन्ना स्टाइगर भी रहे। सत्र की अध्यक्षता यूनिवर्सिटी ऑफ गुएलफ कनाडा के प्रोफेसर डॉ डेविड केल्टन ने की।

'डेयरी फार्म प्रबंधन: अवसर और दृष्टिकोण' पर एक समानांतर सत्र में बोलते हुए केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी और सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री डॉ एल मुरुगन ने डेयरी क्षेत्र में सहकारी समितियों की भूमिका की सराहना की और कहा कि एनडीडीबी भारत को आत्मानिर्भर भारत बनने के लिए पुरजोर समर्थन कर रहा है। उन्होंने कहा कि डेयरी क्षेत्र में भारत को 6% की निरंतर उच्च वृद्धि के साथ वैश्विक नेता बनाने की जबरदस्त क्षमता है और सरकार आगे के विकास और अरबों किसानों के लाभ के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है।

 स्पेन के रोमुलो अल्वार्डो ने कहा कि डेयरी क्षेत्र के सामने तीन चुनौतियां बाजार पहुंच हैं, डेयरी क्षेत्र के अर्थशास्त्र को समझना और क्षमता ऐसी चुनौतियां हैं जिन्हें अवसरों में भी बदला जा सकता है। सत्र की अध्यक्षता ऑस्ट्रेलिया की प्रतिनिधि और डेयरी सस्टेनेबिलिटी ऑस्ट्रेलिया के महाप्रबंधक सुश्री हेलेन डोर्नोम ने की। भाग लेने वाले अन्य लोगों में रोमुलो अल्वार्डो, परियोजना प्रबंधक, डेयरी विकास, टेट्रा पाक, स्पेन, स्नोरी सिगर्डसन, वरिष्ठ परियोजना प्रबंधक, आरिया फूड्स, नाइजीरिया और अमूल डेयरी, आणंद, गुजरात के प्रबंध निदेशक अमित व्यास शामिल थे। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन