कायक : फेस्टिव सीजन में भारतीय पर्यटकों के लिए ट्रैवेल ट्रेंड्स

योगेश भट्ट ० 
• 2019 के मुकाबले इस फेस्टिव सीजन में विमानों के किराए में करीब 62 फीसदी* की बढ़ोतरी के बावजूद उड़ानों की खोज 2019 के मुकाबले 118 फीसदी बढ़ी • इस फेस्टिव सीजन में जिन घरेलू पर्यटक स्थलों में उड़ानों की खोज सबसे ज्यादा हुई, उनमें गोवा रैकिंग में सबसे ऊपर था, जबकि दुबई, बैंकॉक और लंदन घूमने के लिए सबसे ज्यादा लोकप्रिय शहर रहे • अमेरिकी, ब्रिटिश, कनाडाई और ऑस्ट्रेलियाई पर्यटक सबसे ज्यादा भारत के विभिन्न शहरों की यात्रा पर आए^

नयी दिल्ली : 2022 का फेस्टिव सीजन ( 1 सितंबर से 30 नवंबर ) ऐसा सीजन बन गया है जिसका बहुत ही उत्‍सुकतासे इंतजार किया जा रहा है। कोरोना में लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों पर ढील के बाद पर्यटकों का अलग-अलग पर्यटक स्थलों पर आवागमन काफी बढ़ गया है। पर्यटन की गतिविधियां फिर बढ़ रही हैं क्‍योंकि अब पर्यटकों की नई-नई जगहों की यात्रा करने और नए अनुभव लेने की इच्छा फिर बढ़ने लगी है।
विश्व के प्रमुख ट्रैवेल सर्च इंजन KAYAK.co.in पर तलाश किए गए डेटा से यह सुझाव मिला है। इसमें 2022 के फेस्टिव सीजन में यात्रा की अवधि के लिए अलग-अलग पर्यटक स्थलों की तलाश का विश्लेषण किया गया। आंकड़ों से यह सामने आया कि महामारी से पहले के स्तर की तुलना में भारत के हवाई अड्डों से विमान की तलाश करीब 118 फीसदी बढ़ी। अंतर्राष्‍ट्रीय उड़ानों के लिए की गई खोज की मांग करीब 143 फीसदी बढ़ी, जबकि घरेलू विमानों की उड़ानों से संबंधित सर्च में 91 फीसदी* की बढ़ोतरी हुई।

फ्लाइट्स की बढ़ती कीमतें भी भारतीय पयर्टकों के उत्साह को खत्म नहीं कर पाई हैं। 2019 की तुलना में अंतर्राष्‍ट्रीय उड़ानों में करीब 38 फीसदी और घरेलू उड़ानों में 39 फीसदी की बढ़ोतरी हुई।* इस फेस्टिव सीजन में रिटर्न इकोनॉमी डोमेस्टिक फ्लाइट की औसत कीमत करीब 8,585 रुपये रही, जबकि रिटर्न इंटरनेशनल इकोनॉमी फ्लाइट की कीमत 56,332 रुपये रही।*इस समय भारतीयों के लिए देश-विदेश घूमने का काफी अच्छा समय है क्योंकि दुनिया भर से प्रतिबंधों में ढील दी गई है। उन्हें पूरी तरह हटा लिया गया है। यह देश में फेस्टिव सीजन के आने के मौके के साथ-साथ हुआ है।

KAYAK.co.in पर तलाश किए गए पर्यटक स्थलों की संख्या के अनुसार ऐसा लगता है कि भारतीय पर्यटक अब खोए हुए समय की भरपाई करना चाहते हैं और 2019 में महामारी से पूर्व की स्तर की तुलना में ज्यादा से ज्यादा जगहों की यात्रा करने में उनकी दिलचस्पी बढ़ गई है। महामारी से पहले के वक्त की तुलना में अगर उड़ानों की खोज काफी बढ़ गई है तो अलग-अलग शहरों में होटलों की खोजबीन करने में भी बढ़ोतरी 2019 के स्तर से आगे निकल गई है। कायक के इंडिया कंट्री मैनेजर तरुण तहलियानी ने कहा, “इस फेस्टिव सीजन में आपको कई अच्छी डील मिल सकती हैं। हमेशा कायक पर लचीले सर्च ऑप्शन और फिल्टर की तलाश करें, जिससे आपको उस दिन का पता चल सके, जिस दिन फ्लाइट्स और होटल किफायती दर पर उपलब्ध हों। इसमें आप अपनी पसंदीदा जगहों के लिए प्राइस अलर्ट भी तय कर सकते हैं।”

कायक ने इस फेस्टिव सीजन का लुत्फ उठाने के लिए भारतीयों के लिए ट्रैवेल ट्रेंड्स का खुलासा किया, जिसमें बताया गया कि भारतीयों की यात्रा की आदतें कैसी है और वह इस साल किन जगहों की यात्रा कर रहे हैं और 2022 के त्‍योहारी सीजन में अंतरराष्ट्रीय पर्यटन अब किस तरह से आकार ले रहा है। त्‍योहारों के दौरान की जाने वाली यात्रा अविध के बारे में KAYAK.co.in की सर्च से जुड़ी जानकारियां *:

● होटल की तलाश बढ़ी - 2019 की तुलना में भारतीयों के लिए इस साल होटलों की तलाश 34 फीसदी बढ़ गई। देश भर में भी घरेलू होटलों की खोज में करीब 98 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। ● होटल की कीमतें थोड़ी सी बढ़ीं- कायक का इस्तेमाल करने वाले भारतीय यूजर्स के लिए 2019 की तुलना में विदेश में 3 या 4 सितारा होटलों के डबल रूम में एक रात ठहरने के किरायों में करीब 22 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। इसी तरह देश के अलग-अलग शहरो में होटलों के कमरों का किराया करीब 25 फीसदी तक बढ़ गया। 

● छोटे विदेशी दौरे - हालंकि सर्च से यह पता चलता है कि इस फेस्टिव सीजन में भारतीय यात्री ज्‍यादा यात्रा कर रहे हैं। फ्लाइट सर्च डाटा के अनुसार उनकी यात्रा की अवधि 2019 की तुलना में कम होकर औसत रूप से 24 दिन हो गई है (2019 के मुकाबले यह 13 फीसदी कम है)।● लंबी अवधि की घरेलू यात्रा-फ्लाइट सर्च डेटा के अनुसार 2022 में यात्रा की औसत अवधि करीब 6 दिन रही। यह 2019 की तुलना में एक दिन ज्यादा है।फेस्टिव सीजन की यात्रा अवधि के दौरान भारतीय पर्यटकों के लिए शीर्ष डेस्टिनेशन के लिए KAYAK.co.in की सर्च से जुड़ी जानकारियां *:

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन