दिल्ली में डेलावेयर यूनिवर्सिटी के एलुमुनी सम्मेलन का भव्य आयोजन

० योगेश भट्ट ० 
नयी दिल्ली - टॉप 100 विश्वविद्यालयों की सूचि में विशेष स्थान बना चुकी डेलावेयर यूनिवर्सिटी ने दिल्ली में पहले एलुमुनी सम्मलेन का भव्य आयोजन किया। डेलावेयर यूनिवर्सिटी को अमेरिका के शीर्ष 20 कॉलेजों में गिना जाता है। यह स्नातक के लिए छात्रों को इंजीनियरिंग, व्यवसाय और विज्ञान के प्रमुख छेत्रों में 150 से ज्यादा मेजर डिग्री उपलब्ध कराता है। हाल ही में रिलीज़ हुए यूएस न्यूज एंड वर्ल्ड रिपोर्ट द्वारा बेस्ट ग्रेजुएट स्कूल 2023 संस्करण में यूनिवर्सिटी के 23 स्नातक प्रोग्राम्स को शीर्ष 100 में सूचीबद्ध किया गया था, जिनमें से 10 कार्यक्रमों को शीर्ष 50 में रखा गया था।

एक वैश्विक विश्वविद्यालय होने की लक्ष्य के साथ डेलावेयर यूनिवर्सिटी स्टडी अब्रॉड प्रोग्राम शुरू करने वाला पहला अमेरिकी विश्वविद्यालय था जिसके पश्चात कई अन्य विश्वविद्यालयों ने इसका अनुसरण किया। अंतरराष्ट्रीय नामांकन के मामले में, भारतीय छात्रों की संख्या यूनिवर्सिटी में दूसरे स्थान पर है। एलुमुनी सम्मेलन के साथ साथ विदेशों में अध्ययन करने में रुचि रखने वाले भावी भारतीय छात्रों को विश्वविद्यालय की एक महान अंतर्दृष्टि भी पेश की गयी। इस अवसर पर, भारत और विदेशों से डेलावेयर यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्रों ने यूनिवर्सिटी से जुडी अपनी यादों को साझा किया और बताया कि कैसे विश्वविद्यालय और उसके प्रफेसर्स ने उनके व्यक्तित्व और करियर के विकास में योगदान दिया है।

सम्मेलन में डॉ. सोंग हॉफमैन, इंटरनेशनल एडमिशन के निदेशक, प्रो. रिक एंड्यूज़, लर्नर कॉलेज ऑफ़ बिजनेस एंड इकोनॉमिक्स में वरिष्ठ एसोसिएट डीन, क्रिस्टियन ग्रेव्स और मेघन होगन, एसोसिएट वाइस प्रेसिडेंट फॉर डेवलपमेंट, डॉ. रवि अम्मीगन, एसोसिएट प्रोवोस्ट फॉर इंटरनेशनल प्रोग्राम्स, और जमीला शेख, विश्वविद्यालय प्रतिनिधि (भारत) ने पूर्व छात्रों का स्वागत किया। यूनिवर्सिटी के विभिन्न विभागों से स्नातक कर चुके छात्र अपने अनुभवों को साझा करने के लिए सम्मलेन में एकत्रित हुए थे। यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में कॉर्पोरेट अधिकारियों, प्रशासनिक नेताओं, नौकरशाहों और नीति निर्माताओं जैसी मुख्या भूमिकाओं में अपना योगदान दे रहे हैं।

जमीला शेख, विश्वविद्यालय प्रतिनिधि (भारत) ने अपने विचार साझा करते हुए कहा, "डेलावेयर यूनिवर्सिटी के जुड़ाव और प्राथमिकता के दृष्टिकोण से, भारतीय परिसर अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए शीर्ष देश है। मैं मुंबई के बाहर से हूं, और अक्सर हाई स्कूल काउंसलर, छात्रों और अभिभावकों के लिए संपर्क का पहला बिंदु हूं। संभावित छात्रों से मिलने और देश में हमारे पूर्व छात्रों के साथ नेटवर्क कायम रखने के लिए देश भर में यात्रा करती हूँ। डेलावेयर यूनिवर्सिटी सभी छात्रों के लिए एक सुनेहरा भविस्य कायम करने के लिए प्रतिबद्ध है।"

सम्मेलन से पहले, विश्वविद्यालय के प्रतिनिधियों ने इंटरनेशनल कैरियर और काउन्सलिंग मूवमेंट (IC3) के वार्षिक कांफ्रेंस में भाग लिया, जो हैदराबाद में भी आयोजित किया गया था। वहां, उन्होंने उच्च शिक्षा के प्रतिनिधियों के साथ बात की और नए अंतरराष्ट्रीय छात्रों से मुलाकात की जो इस वर्तमान सेमेस्टर में डेलावेयर यूनिवर्सिटी में भाग लेंगे। जोसेफ रॉबिनेट बाइडेन जूनियर, 46 वें, संयुक्त राज्य अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति, डॉ जिल बाइडेन, संयुक्त राज्य की वर्तमान प्रथम महिला, क्रिस क्रिस्टी, न्यू जर्सी के पूर्व गवर्नर , हेनरी सी. ब्रिंटन, नासा के अनुसंधान प्रभाग के निदेशक और रिचर्ड एफ. हेक (ऑर्गेनिक केमिस्ट्री) जैसे कई विश्वप्रख्यात व्यक्ति डेलावेयर यूनिवर्सिटी के उल्लेखनीय एलुमुनी की गिनती में शामिल हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन