जयपुर : जवाहर कला केंद्र पंचतत्व उत्सव का आगाज

० अशोक चतुर्वेदी ० 
जयपुरः जवाहर कला केंद्र का कृष्णायन सभागार कथक व लोक नृत्य प्रस्तुति के मनमोहक संगम का गवाह बना। पंचतत्व उत्सव के तहत आयोजित मरुधरा कार्यक्रम, कला-संस्कृति विभाग, जवाहर कला केंद्र एवं ओरियन ग्रीन्स जयपुर द्वारा आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ नृत्य गुरु अनिता ओरडिया के निर्देशन में किंकिंणी ग्रुप की नृत्यांगनाओं ने समां बांधा।राजस्थान राज्य मेला प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रमेश बोराणा, राजस्थान संगीत नाटक अकादमी, जोधपुर की अध्यक्षा बिनाका जेश मालू ने पंचतत्व उत्सव का उद्घाटन किया।
धरती वंदन कर तीन ताल में शुद्ध कथक के साथ नृत्यांगनाओं ने प्रस्तुति की शुरुआत की। इसके बाद अमीर खुसरो की रचना ‘सकल बन’ पर कथक कर प्रकृति के सौंदर्य का वर्णन किया गया। इनमें दर्शिता बायदवाल, वृष्टि शर्मा, आकृति गुप्ता व अन्य शामिल रहीं। इसके बाद धरमी बाई, सीमा व निरमा ने लोक नृत्य की छटा बिखेरी। उन्होंने घूमर, तेरहताली, भवाई व चरी नृत्य पेश कर दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। अनवर खान ने खड़ताल और किशन भाट ने ढोकल पर संगत की। उदयपुर के ईश्वर माथुर ने संगीत संयोजक की भूमिका निभाई।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन