इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन का राजस्थान रीजन का वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन

० आशा पटेल ० 
जयपुर . इंडियन फेडरेशन ऑफ जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन, राजस्थान रीजन का तृतीय वार्षिक अभिकर्ता सम्मेलन भगवान श्री परशुराम भवन, विद्याधर नगर, जयपुर में मणिपाल हॉस्पिटल, जयपुर के सहयोग से सफलतापूर्वक आयोजित किया गया।IFGIAA संगठन के राजस्थान रीजन अध्यक्ष रवीन्द्र गौड़ ने बताया कि इसमें संपूर्ण राजस्थान के साधारण बीमा ,स्वास्थ्य बीमा और जीवन बीमा के लगभग 650 अभिकर्ता साथियों ने अपनी उपस्थिति प्रदान कर कार्यक्रम को सफल बनाया।

संगठन के उपाध्यक्ष आलोक श्रीवास्तव एवं सचिव सुनील शर्मा ने बताया कि कार्यक्रम में बैंगलोर से संगठन के अ भा संस्थापक अध्यक्ष बसवराज, जी एस ओर जीआई कोंसिल एवं इरडा रिव्यू कमेटी सदस्य  के सी लोकेश , जयपुर से राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह राठौड़ , दिल्ली से राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विकास भारद्वाज एवं जनरल सेक्रेटरी सुधीर गुप्ता, जोधपुर से राजस्थान रिजन वरिष्ठ उपाध्यक्ष सवाई सिंह भाटी उपस्थित हुए और साथ ही मणिपाल हॉस्पिटल के डायरेक्टर रंजन ठाकुर , यूनाइटेड इंडिया इंशोरेंस के जोधपुर सीआएम जी के बंसल , राम जीआईसी के जीएम मनीष दवे , जम्मू से लेफी अध्यक्ष नरेंद्र शर्मा जी ने उपस्थिति प्रदान की।

राजस्थान रिजन के वाइस प्रेसिडेंट श्री मनीष भंडारी एवं कोषाध्यक्ष श्री सौरभ गोधा ने बताया की कार्यक्रम में विडाल टीपीए ,निवा बुपा हेल्थ इंशोरेंस , श्री राम जनरल इंशोरेंस , अल्फ़ा हुंडीई , ईडन फॉर व्हीलर्स एवं फ़ास्ट ट्रेक ओटो कार्स ने भी शिरकत की . .कार्यक्रम में मनिपाल हॉस्पिटल के सहयोग व 6 डाक्टर्स की टीम ने अलग अलग विभाग के एक 45 मिनिट का हैल्थ टॉक शो का भी आयोजन किया।इस अभिकर्ता सम्मेलन में वर्तमान समय में बीमा क्षेत्र में हो रहे नए परिवर्तनों के बारे मे और आने वाले समय में इससे मुकाबला करने के बारे में विस्तृत चर्चा की गई।

 हॉस्पिटल की ओर से निशुल्क जॉच की व्यवस्था भी की गई।इस आयोजन को सफलता पूर्वक आयोजित करने पर राजस्थान रीजन के ज्वाइंट सेक्रेटरी गुलाब चोपड़ा ने सभी उपस्थित अतिथियों, सदस्यों, हॉस्पिटल की सम्पूर्ण टीम एवं राजस्थान रिजन की कार्यकारिणी टीम सदस्यों को धन्यवाद एवं आभार संबोधन दिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयपुर में 17 प्रदेशों के प्रतिनिधियो ने प्रभावी शिक्षा प्रणाली तथा नई शिक्षा नीति पर मंथन किया

"मुंशी प्रेमचंद के कथा -साहित्य का नारी -विमर्श"

हिंदी के बदलते स्वरूप के साथ खुद को भी बदलने की तरफ जोर

अर्न्तराष्ट्रीय इस्सयोग समाज के साधकों द्वारा अखंड साधना भजन