अच्छी किताबें घर-घर पहुँचाना और पुस्तक संस्कृति को बढ़ावा देना हमारा मक़सद : राजकमल प्रकाशन

० योगेश भट्ट ० 
नई दिल्ली।राजकमल प्रकाशन समूह ने त्योहारों के इस मौसम को धन-धान्य की समृद्धि के साथ-साथ ज्ञान की समृद्धि के अवसर के रूप में मनाने का आह्वान किया है। इसके लिए राजकमल ने 14 से 18 अक्तूबर तक सभी लोगों से ‘किताबतेरस’ मनाने की अपील की है। राजकमल प्रकाशन समूह के सीईओ आमोद महेश्वरी ने कहा, अभी त्योहारों का मौसम है। धनतेरस हो या दिवाली अथवा भाईदूज, पर्वों के दौरान हम सब धन-सम्पत्ति और सुख समृद्धि की कामना करते हैं। अपने प्रिय लोगों को उपहार देते हैं। परम्परागत रूप से उपहारों के आदान-प्रदान में सोने-चाँदी के सिक्के, बर्तन जैसी क़ीमती वस्तुओं पर ज़ोर रहता है। इन अवसरों पर अच्छी पुस्तकें भी उपहार में देनी चाहिए। उन्होंने कहा, कोई भी समाज बौद्धिक उन्नति के बिना वास्तविक रूप से सम्पन्न नहीं हो सकता। किताबें हमें बौद्धिक रूप से सम्पन्न करती हैं। इसलिए हम सभी लोगों से ‘किताबतेरस’ मनाने का आह्वान करते हैं।
उन्होंने बताया कि ‘किताबतेरस’ उत्सव राजकमल प्रकाशन समूह की वेबसाइट पर आयोजित किया गया है, जहाँ से कोई भी विशेष छूट पर अपनी पसंद की पुस्तकें अपने मित्रों, परिजनों को उपहार देने के लिए या अपने लिए प्राप्त कर सकता है। अच्छी किताबें घर घर पहुँचे ये हमारा मक़सद है। इस अवसर पर राजकमल चुनिन्दा पुस्तकों पर 55 फ़ीसदी तक की छूट दे रहा है। साथ ही साथ डिलीवरी चार्ज भी राजकमल वहन करेगा। राजकमल प्रकाशन समूह की वेबसाइट पर प्रत्येक आयुवर्ग और रुचि के लोगों के लिए किताबें उपलब्ध हैं। इस विशेष अवसर के लिए चुनिन्दा पुस्तकों के कई सेट भी बनाए गये हैं जिन्हें कोई अपने लिए या अपने प्रिय लोगों को उपहार स्वरूप देने के लिए ले सकता है।

किताबतेरस की अवधि के दौरान मिलने वाली विशेष छूट का लाभ राजकमल की दिल्ली, पटना और इलाहाबाद स्थित शाखाओं से भी उठाया जा सकता है।ग़ौरतलब है कि राजकमल प्रकाशन समूह बीते कुछ वर्षों से त्योहारों के मौसम में ‘किताबतेरस’ अभियान चला रहा है। इस बार यह अभियान 14 अक्तूबर से 18 अक्तूबर तक चलेगा।किताबतेरस अभियान को पुस्तक प्रेमियों ने ख़ासा पसंद किया है। यह आयोजन हमारे उत्सव धर्मी समाज और पढ़ने-लिखने वाले लोगों के बीच एक विशेष अवसर के रूप में ख़ासा लोकप्रिय हो चुका है। इस नए चलन के प्रति लोगों का उत्साह देखते हुए राजकमल प्रकाशन समूह ने इसे और पाठकोन्मुख बनाने का प्रयास किया है। ताकि पुस्तक संस्कृति समाज में व्यापक रूप से प्रतिष्ठित हो और हरेक पढ़ने वाले को उसकी पसंद की किताबें आसानी से मिल सकें।

 इस अभियान में राजकमल प्रकाशन समूह की छूट पर उपलब्ध होंगी ढेरों किताबें :25 % की विशेष छूट पर सभी पुस्तकें उपलब्ध ₹ 1000+ की ख़रीद पर 5 % की अतिरिक्त छूट व डिलीवरी फ़्री ₹ 4000+ की ख़रीद पर 15 % की अतिरिक्त छूट व डिलीवरी फ़्री चुनिन्दा सजिल्द पुस्तकों पर 55% तक की विशेष छूट व डिलीवरी फ़्रीरचनावली तथा अन्य चुनिंदा पुस्तकों के सजिल्द संस्करण पर 40% + 15 % तक की विशेष छूट

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद