गोविन्द गुरु' प्रदर्शनी का हुआ उद्घाटन

० आशा पटेल ०
जयपुर - जे.ई.सी.आर.सी. विश्वविद्यालय, जयपुर में 25-27 नवंबर आयोजित होने जा रहे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन की प्रदर्शनी का उद्घाटन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र संघचालक डॉ रमेश अग्रवाल तथा अभाविप की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पूनम सिंह ने किया, उद्घाटन के अवसर पर जयपुर महानगर अध्यक्ष डॉ अरूण कुमार वर्मा , जयपुर महानगर मंत्री ट्विंकल शर्मा तथा राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य,अभाविप दिव्या मंच पर उपस्थित रहे। अधिवेशन मंडप का नाम वीर महापुरुष गोविन्द गुरु जी के नाम पर रखा गया है।
अभाविप अधिवेशन में लगाई गई यह अष्टकोणीय प्रदर्शनी राजस्थान के ऐतिहासिक, पारम्परिक, भौगोलिक तथा सामाजिक परिदृश्य को प्रस्तुत कर रही है; प्रदर्शनी में राजस्थान के महापुरुषों व गुमनाम नायकों, कला शैलियों के बारे में जानकारी दी गई है। इसके साथ ही प्रदर्शनी में देश के सभी राज्यों में अभाविप की गतिविधियों, अभाविप के थिंक इंडिया,एसएफडी,सविष्कार,मेडिविजन, राष्ट्रीय कला मंच जैसे आयामों की अखिल भारतीय गतिविधियों की भी झलक दिखाई देती है।  अभाविप के अधिवेशन स्थल पर राजस्थान के महापुरुषों महाराणा प्रताप, गोविन्द गुरु आदि के साथ राजस्थान के अनेक गुमनाम नायकों के चित्र तथा प्रतिमाएं लगाई गईं हैं व‌ उनके बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है, जिससे देशभर से आए प्रतिनिधि इन महापुरुषों से अच्छी तरह परिचित हो सकें।

प्रदर्शनी उद्घाटन के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के राजस्थान क्षेत्र के क्षेत्र संघचालक ने कहा कि," विद्यार्थी परिषद भारत के सर्वांगीण विकास की दिशा में कार्यरत महत्वपूर्ण संगठन है ‌। छात्र भारत का वर्तमान भी है और भविष्य भी,इस बात को ध्यान रखना चाहिए। अभाविप ने युवाओं में राष्ट्र के प्रति दायित्व बोध का विकास व देश की एकात्म भावना के विकास के लिए महत्वपूर्ण प्रयत्न किया है। अभाविप की प्रदर्शनी में जिन महापुरुषों का वर्णन है,वह युवाओं को प्रेरित करने वाला है। आशा है यह प्रदर्शनी युवाओं को नई दिशा देगी।"

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद