रिलायंस जियो को मिला टेलिकॉम सेक्टर में प्रतिष्ठित ईएसजी पर्फोर्मेंस अवार्ड

० संवाददाता द्वारा ० 
मुंबई - जियो को यह अवार्ड उनके द्वारा किए जा रहे उन प्रयासों के लिए है जिसके तहत कंपनी ने जीवाष्म ईंधन(पेट्रोल-डीजल) पर निर्भरता कम करते हुए वैल्कपिक ऊर्जा के स्त्रोतों से ऊर्जा की तकनीकें अपनानी शुरु की हैं और साथ ही स्वदेशी 5जी तकनीक भी कुछ इस प्रकार विकसित की है कि उससे कृषि, स्वास्थ्य और शिक्षा में भी प्रयोग किया जा सके। जियो देश के 10 करोड़ अति गरीब और वंचित लोगों को भी डिजिटल कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए प्रयासरत है और उनकी आर्थिक क्षमता में आ सकने लायक मोबाइल भी बनाने में जुटा है। 

ट्रांस्फोर्मेंस फोर्म्स द्वारा मुंबई में आयोजित दूसरे ESG समारोह एवं अवार्ड्स में रिलायंस जियो ने एनवायरमेंटल सोशल एंड गवर्नेंस पर्फोर्मेंस में भी अवार्ड जीतकर बाजी मार ली है। पर्यावरण संरक्षण के प्रयासों के तहत Jio पहले ही भारत भर में अपनी 16,000 से अधिक साइटों पर 144 मेगावाट से अधिक सौर ऊर्जा स्थापित कर चुका है। यह वैकल्पिक ऊर्जा के स्त्रोत रिलायंस जियो और रिलायंस समूह की प्रतिबद्धता को भी दर्शाता है, जिसके तहत कंपनी ने स्वयं को 2035 तक जीरो कार्बन उत्सर्जन वाली कंपनी बनने का संकल्प लिया है। 

पेरिस में हुए समझौते के अनुरूप 1.5oC के अनुरुप रिलायंस द्वारा की गई इस कार्बन उत्सर्जन की कमी को साइंस बेस्ड टार्गेट इनिशिएटिव के द्वारा भी जांचा परखा गया है। जियो द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए किए गए प्रयासों को देखते हुए उसे इसी वर्ष कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट(CDP) के लिए A- की लीडरशीप रेटिंग मिल चुकी है। यह भारत द्वारा किसी भी टेलिकॉम कंपनी को मिली सर्वोत्कृष्ट रेटिंग है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद