जयपुर पत्रकार आवास योजना जल्द मूर्त रूप लेगी

० आशा पटेल ० 
जयपुर। पत्रकारों की बहुप्रतीक्षित आवास योजना को लेकर पिंकसिटी प्रेस क्लब प्रतिनिधिमंडल ने आरटीडीसी चेयरमैन धर्मेंद्र राठौड़ से लंबी चर्चा की। राठौड़ ने पिंक सिटी प्रेस क्लब में किए अपने वायदे पर खरे उतरते हुए आश्वस्त किया कि पत्रकार बंधु मिठाई खिलाने को तैयार रहें। नायला आवास योजना पर मुख्यमंत्री काफी सकारात्मक हैं। सरकार की मंशा है की पत्रकारों को जल्द से जल्द आवास मुहैया कराए जाएं। प्रेस क्लब अध्यक्ष मुकेश मीणा के नेतृत्व में 11 सदस्य प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को राठौड़ से उनके कक्ष में मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने राठौड़ को बताया कि सभी पत्रकार साथी अलग-अलग मोर्चों पर आवास योजना को लेकर संघर्षरत हैं, लेकिन हम सब का उद्देश्य एक ही है। नायला में पूर्व में 571 पत्रकारों की प्लॉट लॉटरी निकल चुकी है 

लेकिन अब तक कब्जा नहीं मिला है। सभी पत्रकार साथी चाहते हैं कि उन्हें जल्द से जल्द कब्जा दिया जाए। राठौड़ ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि इस मामले में उनकी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी से काफी लंबी चर्चा हो चुकी है। मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर वे और मंत्री महेश जोशी नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल से चर्चा करेंगे ताकि जल्द पत्रकारों को आवास मिले । इस मामले में जो भी प्रशासनिक कार्रवाई की जानी है उसे जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा। पत्रकारों को जल्द से जल्द आवास मुहैया होंगे इसमें अब किसी तरह का कोई शक नहीं है। 

राठौड़ ने कहा है कि पत्रकारों को इस मामले में चिंता की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि वे खुद वकील बनकर पत्रकारों की पैरवी कर रहे हैं। राठौड़ ने प्रेस क्लब स्थापना दिवस समारोह में भी पत्रकारों को इस मामले में आश्वस्त किया था। प्रतिनिधिमंडल में प्रेस क्लब महासचिव रघुवीर जांगिड़, कोषाध्यक्ष राहुल गौतम, वरिष्ठ पत्रकार हरीश गुप्ता, आशुतोष निगम, नमो नारायण अवस्थी, प्रदीप शेखावत, एस.एन. गौतम, प्रेम शर्मा, अनीता शर्मा, सुरेश शर्मा वार्ता में मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद