असम सरकार ने विश्व बैंक के परामर्श से नई पर्यटन नीति की शुरूआत की

० योगेश भट्ट ० 
नई दिल्ली : नई नीति का लक्ष्य दुनिया के लोगों को असम की प्राकृतिक सुंदरता एवं उसके धरोहरों की ओर आकर्षित करना है। यहां के प्राचीन जल, जंगल, पहाड़ और नदियों की उपस्थिति राज्य को पर्यटन के क्षेत्र में असीम संभावनाएं प्रदान करती है। नई पर्यटन नीति इसी लक्ष्य को दर्शाती है। हमारी पेशकश पर्यटकों को हर एक नुक्कड़ पर आकर्षित करेगी। हम निवेशकों के लिए भी विशेष पैकेज लाए हैं। राज्य में सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए असम सरकार के सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग, कौशल विकास रोजगार और उद्यमिता और पर्यटन मंत्री  जयंत मल्ल बरुआ द्वारा एक नई असम पर्यटन नीति, 2022 शुरू की गई। 

इस अवसर पर असम पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष रितुपर्ण बरुआ, भारत सरकार के पर्यटन सचिव आईएएस अरविंद सिंह, असम सरकार के पर्यटन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आईएएस मनिंदर सिंह एवं असम पर्यटन विकास निगम के प्रबंध निदेशक वह पर्यटन सचिव आईआरएस कुमार पद्मपानी बरा उपस्थित थे।  अतुल बरा, कृषि मंत्री, असम, यूजी ब्रह्मा, हथकरघा और वस्त्र मंत्री, असम, संजय किशन, असम के श्रम और रोजगार मंत्री भी असम पर्यटन रोड शो में उपस्थित थे।

नई पर्यटन नीति का अनावरण असम पर्यटन विभाग, असम सरकार द्वारा आयोजित 'असम पर्यटन रोड शो 2022' के मौके पर किया गया। इस अवसर पर उद्यमियों एवं निवेशकों को असम में निवेश करने एवं अपना व्यवसाय स्थापित करने को लेकर आमंत्रित करने के लिए पैनल चर्चा, ऑडियो वीडियो प्रस्तुतियाँ, सांस्कृतिक नृत्य प्रदर्शन और बी 2 बी इंटरएक्टिव सत्र का आयोजन किया गया।

मंत्री बरुआ ने कहा कि यह नीति विश्व बैंक के साथ व्यापक परामर्श के बाद तैयार किया गया था और इसकी तैयारी के प्रत्येक चरण में हितधारकों और उद्योग विशेषज्ञों के विचारों को उचित महत्व दिया गया है। नई असम पर्यटन नीति 2022 उपयुक्त समय पर शुरू की गई है जब राज्य नई शुरुआत की दहलीज पर खड़ा है। नीति का उद्देश्य प्रथाओं की एकरूपता को बढ़ावा देने एवं मानक को बनाए रखना है जिससे पर्यटन उत्पादों की पूरी गुणवत्ता बढ़े और बरकरार रहे। उन्होंने कहा कि नीति का मिशन पर्यटन क्षेत्र में सुधार के लिए केंद्रीय मंत्रालयों, विभिन्न राज्य सरकार के विभागों, स्थानीय समुदायों और पर्यटन हितधारकों के सहयोग से एक नीतिगत ढांचा और रणनीतिक रोडमैप बनाना है, ताकि राज्य में पर्यटन में लगे निजी क्षेत्र का समर्थन किया जा सके। साथ ही पर्यटन क्षेत्र मे लगे खंडों एवं उप क्षेत्रों को मजबूत करना है।

असम सरकार के पर्यटन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव मनिंदर सिंह ने कहा कि नीति का मौलिक मार्गदर्शक सिद्धांत असम को एक स्थायी और जिम्मेदार पर्यटन स्थल बनाने के लिए स्थिरता को प्रोत्साहित करना और जिम्मेदार पर्यटन को बढ़ावा देना है। इसका लक्ष्य सकारात्मक प्रभावों को सुनिश्चित करते हुए सामाजिक, पर्यावरणीय और आर्थिक क्षेत्रों पर पर्यटन के नकारात्मक प्रभावों को सीमित करके स्थिरता को बढ़ावा देना है। यह रणनीति जिम्मेदार पर्यटन को भी बढ़ावा देगी, जो सभी हितधारकों को एक साथ लाने और लोगों के रहने एवं यात्रा करने के लिए एक बेहतर वातावरण मुहैया कराएगी।

स्थानीय युवाओं को रोजगार देने के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए पर्यटन विभाग होटल और रिसॉर्ट में स्थानीय कर्मचारियों के लिए नियोक्ताओं द्वारा ऑन-द-जॉब प्रशिक्षण की सुविधा प्रदान करेगा। इन कार्यक्रमों का उद्देश्य महिलाओं को उनकी कंपनियों में प्रबंधन और नेतृत्व की स्थिति में आगे बढ़ाना और नियोक्ताओं को विशेष रूप से रात में काम करने वाली महिला श्रमिकों के लिए चाइल्डकैअर सहायता और सुरक्षित परिवहन प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करना है। गाइड, रसोइया, वेटर और ड्राइवर जैसे पुरुष-प्रधान पदों पर महिलाओं को प्रशिक्षित करने और इन पदों पर महिलाओं को प्रोत्साहित करने वाली फर्मों को मान्यता प्रदान करने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद