शिक्षित व्यक्ति कोई एक अशिक्षित व्यक्ति को शिक्षित करे तो देश- समाज साक्षर हो जाता है

० ओम पीयूष ० 
नयी दिल्ली : हर वन टीच वन यह एक अफ्रीकी - अमेरिकी कहावत है। इससे कोई भी समाज- देश साक्षर हो जाता है। कहने का तात्पर्य यह कि हर शिक्षित व्यक्ति कोई एक अशिक्षित व्यक्ति को शिक्षित करे तो अतिशीघ्र देश- समाज साक्षर हो जाता है। इसी मूल मंत्र को अपना आदर्श मानकर लोक सारंग फाउंडेशन की निदेशक रश्मि शर्मा ने एम ए, बी एड की डिग्री हासिल करने के बाद मनसा वाचा कर्मणा इस आदर्श वाक्य को अमल में लाने का संकल्प लिया और वह इस निराले कर्म पथ पर आगे बढ़ चलीं। मानव कल्याण के इस पुनीत काम में वह निरंतर अपने कदम आगे बढ़ा रहीं हैं। मिसालें एक नहीं अनेक हैं, जिनसे वह अपनी सक्रिय भागीदारी वक़्त के पन्नों पर अंकित करने का अहसास सहज ही करा देती है
बाल दिवस पर राजा पुरी में झुग्गी में रहने वाले मासुम बच्चो को उपहार दे कर बाल दिवस मनाया | आज भी हमारे आस पास ऐसे अनगीनत बच्चे हैं जो स्कूल नही जा रहे | आज के बच्चे कल का भविष्य होंगे,बच्चे एक राष्ट्र की असली ताकत और समाज की नींव हैं लेकिन सच्चाई तो यह है कि आज भी देश में हजारों लाखों बच्चे बाल मजदूरी में लिप्त हैं। उन्हें उनका शिक्षा का अधिकार नहीं मिल पा रहा है। बाल श्रमिक , बाल मजदूरी की समस्या हर राज्य में व्याप्त है। छोटे बच्चों से मजदूरों की तरह कारखानों, दुकानों, होटलों आदि में काम करवाया जा रहा है।इस बाल दिवस पर हमें यह प्रण लेना चाहिए कि हमसे जैसा भी संभव होगा, हम बाल शोषण व बाल मजदूरी को रोकेंगे। वंचित बच्चों को शिक्षा दिलाने की हर संभव कोशिश करेंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद