सच्चाई जानने के लिए ऑनेस्ट एक्सपर्ट और क्वालिफाईड फोटो जर्नलिज्म आवश्यक

० आशा पटेल ० 
जयपुर । पत्रकारिता के विद्यार्थियों को हार्डकोर फोटोजर्नलिज्म की भूमिकाओं और जिम्मेदारियों से अवगत कराने के उद्देश्य से जयपुर फोटोजर्नलिज्म सेमिनार के 8वां संस्करण का आयोजन बाईस गोदाम सर्किल स्थित 5 बाय ओयो जयपुर में किया गया। इस सेमिनार में पत्रकारिता एवं फोटो पत्रकारिता का गहन अनुभव रखने वाले विशेषज्ञों ने अपने-अपने अनुभव साँझा किये। सेमिनार में देश के विभिन्न हिस्सों के पत्रकारिता एवं जनसंचार के लगभग 150 विद्यार्थियों और प्रोफेसर ने शिरकत की।
इस सेमिनार के मुख्य वक्ता संजय अवस्थी, इंटरनेशनल ऑर्गनाइजेशन फॉर माइग्रेशन (आईओएम) (संयुक्त राष्ट्र यूएन प्रवासन एजेंसी) केप्रमुख ने अपने संबोधन के जरिए बताया कि अगर कोई दुनिया की सच्चाई जानना चाहता हैं तो ऑनेस्ट एक्सपर्ट और क्वालिफाईड फोटोजर्नलिज्म बेहद आवश्यक है। श्री अवस्थी ने जानकारी दी कि लगभग 3.5 करोड़ भारतीय विदेशों में विभिन्न हिस्सों में रह रहे हैं। किसी भी देश में माइग्रेट होने से पूर्व वहां की परिस्थितियां जानने में फोटो जर्नलिज्म की भूमिका अहम होती है। उन्होंने उदाहरण देते हुए कुछ फोटोग्राफ्स के माध्यम से सीरिया से कनाडा जा रहे शरणार्थियों, उनकी आमदनी के लिए चलाये जा रहे सिलाई कैम्पों, फुड डिस्ट्रिब्यूशन के दृश्य, यूक्रेन यु़द्ध के हालात प्रदर्शित किये।

सेमिनार में मनोज माथुर ने किसी न्यूज को शीघ्रता से दर्शकों तक पहुंचाने और प्रभावी ढंग से प्रस्तुत करने में विडियो जर्नलिस्ट की भूमिका पर प्रकाश डाला। उन्होंने अपने अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि किस प्रकार विडियो जर्नलिस्ट के यूनिक आईडिया पर उन्होंने भारत पाक ट्रेन का कवरेज मुनाबाव रेल्वे स्टेशन पर किया था जिसे आगे चल कर बेस्ट स्टोरी का खिताब मिला। उन्होंने कहा कि किसी भी रिपोर्टर की सफल स्टोरी के पीछे फोटो अथवा विडियो जर्नलिस्ट का हाथ होता है। उन्होंने भीलवाडा की देह व्यापार के स्टिंग ऑपरेशन एवं गुर्जर आंदोलन कवरेज के अनुभव भी साझा किए।

सेमिनार में अजय चोपड़ा ने पाठकों की दृष्टि से अखबार में छपने वाली उल्लेखनीय फोटोज् के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बताया कि किसी भी समाचार में जो रिक्त स्थान होता उसकी पूर्ति फोटो कर देती है। उन्होंने कुछ फोटोज् को प्रदर्शित करते हुए कहा कि न्यूज में छपने वाली फोटो का समाज पर गहरा प्रभाव पड़ता है। फोटोज् हमारे विचारों को उद्देलित करती है, हमें सोचने पर मजबूर कर देती है, जागरूकता लाती है और सनसनी उत्पन्न कर देती है।

सेमिनार के अगले वक्ता अयोध्या प्रसाद गौड ने समाचार की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए बताया कि किसी घटना को देखने का नजरिया महिला एवं पुरूष में भिन्न प्रकार से होता है। उन्होंने कहा कि महिला पत्रकार मानवीय पहलू से किसी घटना को देखती है। पत्रकार के रूप में अपने कुछ कवरेज के अनुभवों को साझा करते हुए उन्होंने फलौदी के लुणा गांव में भुखमरी से हुई मृत्यु और बीकानेर में युद्धाभ्यास के कवरेज के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि किसी न्यूजपेपर में छपने वाले समाचार में ऐथिक्स और न्यूज के पाठकों तक जाने वाले संदेश में फोटोजर्नलिस्ट की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। सेमिनार के अन्य प्रमुख वक्ताओं में डायरेक्टर डीआईपीआर पुरुषोत्तम शर्मा, डॉ. मनोज लोढ़ा, हेमजीत मालू, पुरुषोत्तम दिवाकर रहे। इस अवसर पर लीला दिवाकर भी उपस्थित थी। देश भर मे सर्वश्रेष्ठ फोटो जर्नलिज्म लाने के प्रयास के तहत सेमिनार का आयोजन इमेजिन फोटोजर्नलिस्ट सोसाइटी द्वारा किया गया।

उल्लेखनीय है कि इमेजिन फोटोजर्नलिस्ट सोसाइटी का गठन 2012 में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ - पत्रकारिता में नयी क्रांति लाने और पत्रकारिता एवं फोटो पत्रकारिता के कार्य के क्षेत्र में और अधिक गुणवत्ता बढ़ाने के लिए किया गया है। इमेजिन फोटोजर्नलिस्ट सोसाइटी समय-समय पर पत्रकारिता एवं जनसंचार के छात्र और छात्राएं के प्रशिक्षण के लिए लगातार वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है। सोसाइटी द्वारा अब तक लगभग 3000 छात्र एवं छात्राओ को वर्कशॉप एवं सेमिनार के माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान कर चुकी है। इमेजिन फोटोजर्नलिस्ट सोसाइटी का मुख्य उद्देश्य देश में फोटो पत्रकारिता और पत्रकारिता को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का प्रशिक्षण प्रदान कराना है। इस कार्य में देश के अनेक जाने-माने पत्रकार, फोटो पत्रकार, शिक्षाविद एवं विशेषज्ञ इमेजिन फोटोजर्नलिस्ट सोसाइटी को अपना सहयोग प्रदान कर रहे है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद