ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल में होगा फन फेयर आयोजित "रिलीव योर चाइल्डहुड"

० संवाददाता द्वारा ० 
· माता-पिता के लिए अपने बचपन के दिनों को याद करने और अपने बच्चों के साथ रोमांचक और मजेदार गतिविधियों में भाग लेने का दिन | गुड़गांव, जयपुर और इंदौर के चुनिंदा ओआईएस स्कूल इस अनोखे आयोजन का हिस्सा बनने के लिए माता-पिता और बच्चों का स्वागत करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।
रविवार 13 नवंबर को आयोजित किया जा रहा है यह फन फेयर, सुबह 10 बजे से लेके शाम 6 बजे तक। सभी के लिए नि:शुल्क प्रवेश।

गुड़गाँव : ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल (ओआईएस ), भारत की प्रमुख K12 स्कूल श्रृंखला, गुड़गांव, जयपुर और इंदौर के सभी माता-पिता और बच्चों को इस बाल दिवस को अनोखे तरीके से मनाने के लिए आमंत्रित करती है। शहरों के चुनिंदा ओआईएस स्कूल परिसरों में मस्ती से भरे कार्निवल का आयोजन किया जाता है, और सभी के लिए प्रवेश निःशुल्क है। मेले का उद्देश्य माता-पिता को उनके बचपन के खूबसूरत दिनों में वापस ले जाना, उन्हें और उनके बच्चों को बंधन में बंधने के लिए एक मंच प्रदान करना और साथ में कुछ अच्छी यादें बनाना है।

फन फेयर गुड़गांव में ओआईएस गोल्फ कोर्स रोड और साउथ सिटी परिसरों, जयपुर में ओआईएस नेवता परिसर और इंदौर में ओआईएस अरबिंदो स्क्वायर परिसर में आयोजित किया जाएगा। रविवार, १३ नवंबर २०२२ को आयोजित किया जा रहा है यह फन फेयर, सुबह १० बजे से लेके शाम ६ बजे तक।

कार्निवल में माता-पिता और बच्चों दोनों के लिए रोमांचक खेल और मनोरंजक गतिविधियाँ होंगी। बैलून डार्ट्स, रिंग टॉस, बैलून स्कल्पचर, म्यूजिकल चेयर, लेमन स्पून, मैजिक शो, और बहुत कुछ जैसे खेलका बन्दोबस्त किया गया है, यह सुनिश्चित करते हुए कि यह फन फेयर सभी बच्चो और माता-पिताका सबसे यादगार बाल दिवस हो।फन फेयर के बारे में किसी भी प्रश्न के लिए, कृपया संपर्क करें: 8-888-888-999
अभिभावक https://www.orchidsinternationalschool.com/fun-fairपर भी पंजीकरण करा सकते हैं |

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अतरलाल कोलारे बने नुन्हारिया मेहरा समाज के प्रांतीय अध्यक्ष

दादा लख्मी फ़िल्म देश ही नहीं बल्कि विश्व में हलचल मचा सकती है - हितेश शर्मा

भोजपुरी एल्बम दिल के लुटल चैना 5 दिसंबर को होगा रिलीज

Delhi MCD Election वार्ड 117 से आप उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी की जीत की राह आसान

दिल्ली मूल ग्रामीणों की 36 बिरादरी अपनी अनदेखी से लामबंद