फेडरेशन ऑफ फिल्म सोसाइटी ऑफ इंडिया ने ‘फोरम मंच-2019’ का आयोजन किया


'खुला मंच' के संयोजक प्रकाश रेड्डी ने फेडरेशन के इतिहास के बारे में जानकारी दी। इस सोसाइटी को भारत के महान फिल्‍मकार सत्यजीत रे ने 1959 में की थी और इसमें 350 से अधिक फिल्म सोसाइटी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि 'फोरम मंच' को 1988 में 'प्रयोग' के रूप में शुरू किया गया था और तब से यह एक नियमित कार्यक्रम बन गया है।


उन्होंने कहा कि मंच, फिल्म निर्माताओं के लिए साथी फिल्म निर्माताओं, शोधकर्ताओं के साथ बातचीत करना और लेखकों को अपनी किताबें जारी करने के लिए प्रोत्साहित करने का अवसर प्रदान करता है। पिछले 31 वर्षों से 'फोरम मंच' भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म महोत्‍सव में एक नियमित कार्यक्रम रहा है। फेडरेशन ऑफ फिल्म सोसाइटी ऑफ इंडिया ने  'फोरम मंच-2019' का आयोजन किया है। इसका विषय है आईएफएफआई @ 50: फ्लैश बैक एंड मूविंग फॉरवर्ड।


 फिल्म महोत्सव निदेशक और महोत्सव निदेशालय (डीएफएफ) के एडीजी चैतन्य प्रसाद, फेडरेशन ऑफ फिल्म सोसायटी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष किरण शांताराम, फिल्म निर्माता और आईएफएफआई 2019 की तकनीकी समिति के अध्यक्ष ए.के बीर, किनोएटर पत्रिका, रूस के कार्यकारी निर्माता एलेक्सी गोवरुखिन और फ्रांस की अभिनेत्री मैरिएन बोर्गो ने सम्मिलित रूप से किया।


किरण शांताराम ने कहा कि 'खुला मंच' नए दर्शक वर्ग का निर्माण करता है। उन्होंने अनुरोध किया कि यह कार्यक्रम तीन की बजाय सात दिनों तक चलना चाहिए। महोत्सव के निदेशक चैतन्य प्रसाद ने 'खुला मंच' द्वारा किए गए कार्यों की सराहना की।  यह सिनेमा के लिए नए विचारों, नई अवधारणाओं को सामने लाता है। यह एक ऐसा मंच है, जो परंपरा और विरासत संजोए हुए है। एलेक्सी ने रूसी फिल्मों के प्रदर्शन का अवसर प्रदान करने के लिए भारत सरकार और डीएफएफ को धन्यवाद दिया। रूस और भारत के बीच सह-उत्पादन के बारे में उन्होंने कहा, "सरकार रूस में शूट की जाने वाली फिल्मों को 40 प्रतिशत छूट देगी।"


फिल्‍म उद्योग के बारे में उन्होंने कहा कि रूस में 15 फिल्म आयोग हैं जो सहयोगियों को ढूंढने में सहायता करते हैं, विदेशी फिल्म निर्माताओं को रूस में फिल्में बनाने में मदद करते हैं। देश में साल भर में 150 बड़ी स्क्रीन फिल्में बनती हैं।


इस वर्ष महोत्‍सव रूस देश पर केन्द्रित है। अबीगैल रूस की फिल्‍म है। उन्होंने कहा कि देश में सीजीआई फिल्मों के निर्माण की प्रौद्योगिकी उपलब्‍ध है। वे विदेशी प्रतिभाओं को रूसी फिल्‍म में मौका देना चाहते हैं, ताकि रूसी फिल्‍में पूरी दुनिया में देखी जा सकें। हम रूसी फिल्मों में भाग लेने के लिए भारतीय प्रतिभाओं का स्वागत करते हैं।


मैरीएनी बोर्गो पिछले 10 वर्षों से आईएफएफआई में भाग ले रही हैं। उन्होंने कहा, "मैं भारत की शुक्रगुजार हूं और हमें भारतीय फिल्में पसंद हैं। हम भारत, फ्रांस और रूस के बीच फिल्‍मों के माध्‍यम से सेतु निर्माण कर सकते हैं।