संदेश

मई 18, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

स्वच्छ भारत मिशन के बारे में रॉयटर्स के लेख पर पेय जल और स्वच्छता मंत्रालय की प्रतिक्रिया

चित्र
नयी दिल्ली - संवाद समिति रॉयटर्स ने एक लेख प्रकाशित किया है जिसका शीर्षक है “मोदी की स्वच्छ भारत की घोषणा, लेकिन वास्तविकता कुछ और धुंधली हो सकती है”। इस लेख में उसने स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अंतर्गत, खासतौर से ग्रामीण स्वच्छता के बारे में वार्षिक राष्ट्रीय सर्वेक्षण 2018-19 के हाल के निष्कर्षों के बारे में सवाल उठाए हैं। ग्रामीण स्वच्छता के बारे में वार्षिक राष्ट्रीय सर्वेक्षण 2018-19 (एनएआरएसएस) देश का सबसे बड़ा स्वतंत्र स्वच्छता सर्वेक्षण है जो एक स्वतंत्र सत्यापन एजेंसी द्वारा कराया जाता है। इसमें 6136 गांवों, 92040 परिवारों और 5782 स्कूलों, 5803 आंगनवाड़ी केंद्रों, 1015 सार्वजनिक शौचालयों और 6055 सार्वजनिक स्थलों के चयन ढांचों को शामिल किया गया, जिसकी वजह से यह देश का सबसे अधिक वर्णन करने वाला स्वच्छता सर्वेक्षण बन गया है। एनएआरएसएस 2018-19 में पाया गया कि गांवों में शौचालयों का इस्तेमाल 93.4 प्रतिशत और ग्रामीण भारत में 96.5 प्रतिशत होना चाहिए। भारत की गुणवत्ता परिषद द्वारा 2017 में, और  में राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण संगठन द्वारा 2016 कराए गए 2 और स्वतंत्र सर्वेक्षणो

माउंट टेनचेनखांग पर सिक्किम का पहला एनसीसी बालिका अभियान दल रवाना

नयी दिल्ली - अपर महानिदेशक(बी) मेजर जनरल संजय गुप्‍ता ने माउंट टेनचेनखांग पर विजय प्राप्‍त करने के लिए सिक्किम के पहले राष्ट्रीय कैडेट कोर(एनसीसी) बालिका अभियान दल को झंडी दिखाकर रवाना किया। दल का नेतृत्व लेफ्टिनेंट कर्नल माधब बोरो कर रहे हैं। इस दल में तीन अधिकारी(चिकित्सा अधिकारी सहित), 17 पीआई स्टाफ और पूरे भारत के एनसीसी निदेशालयों के 20 एनसीसी बालिका कैडेट्स हैं। 1970 के बाद, सिक्किम में एनसीसी कैडेट्स का यह पहला अभियान है। पर्वतारोहण दल जून 2019 के अंत तक माउंट तेनचेनखांग (6010 मी) पर विजय प्राप्‍त करने का प्रयास करेगा। मेजर जनरल संजय गुप्ता ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि दल शिखर पर विजय प्राप्‍त करने में सफल होगा और एनसीसी के झंडे को ऊंचाई प्रदान करेगा। वे कैडेट्स की लगन को देखकर खुश थे।